उदयपुर के इस बांध के लिए सरकार ने स्वीकृत किए छह लाख रुपए, फीडर के लिए डीपीआर की मंजूरी

उदयपुर के इस बांध के लिए सरकार ने स्वीकृत किए छह लाख रुपए, फीडर के लिए डीपीआर की मंजूरी

Bharat I Sharma | Updated: 27 Dec 2017, 12:12:31 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

मावली (निप्र). सरकार ने 11 साल से रीते मावली क्षेत्र के सबसे बड़े बागोलिया बांध की सुध ली है।

मावली (निप्र). सरकार ने 11 साल से रीते मावली क्षेत्र के सबसे बड़े बागोलिया बांध की सुध ली है। इसे भरने को फीडर के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) बनाई जाएगी, जिसके लिए छह लाख रुपए मंजूर किए गए हैं। जल संसाधन विभाग ने डीपीआर के लिए स्वीकृति दी है। मावली विधायक दलीचंद डांगी ने बताया कि बागोलिया को भरने के लिए करीब 155 मिलियन क्यूबिक फीट (एमसीएफटी) पानी चाहिए। नई डीपीआर स्वीकृति के तहत बागोलिया को 90 एमसीएफटी पानी दिया जाएगा। अगले तीन साल में धीरे-धीरे मात्रा बढ़ाई जाएगी।


यह है संभावना
सूत्रों के अनुसार बांध को भरने के लिए सर्वे करवाया गया है। इसके तहत उदयसागर से नहर के जरिए ढाणा, मेड़ता, ओड़वाडिय़ा, खेमली होते हुए पानी बागोलिया तक लाया जा सकता है। बता दें कि उदयसागर से डबोक तक नहर बनी हुई है। इसके जरिए बागोलिया को भरा जा सकता है।

 

 

READ MORE: शिल्पग्राम उत्सव में बिहू, थांग-ता और सहरिया स्वांग ने जमाया रंग, हाट बाजार में शिल्प उत्पादों की खरीदारी परवान पर

 


बागोलिया बांध क्षेत्रवासियों की उम्मीदों से जुड़ा है, क्योंकि यह पानी और सिंचाई का सबसे बड़ा स्रोत है। इसे भरने के लिए की दिशा में सरकार ने बड़ा कदम उठाया है, जिसके सकारात्मक परिणाम जल्द सामने आएंगे।
दलीचंद डांगी, विधायक, मावली


वर्ष जल स्तर
1981 7.9
1983 18.50
1984 4.5
1985 9.2
1986 9.7
1988 4.25
1989 7.9
1990 3.6
1991 3.75
1992 9.5
1994 4.8
2001 8.30
2005 12.50
2006 21.6
2007 6.90
(जलस्तर फीट में)

 

READ ALSO: शिल्पग्राम उत्सव में पर्यटकों की रेलमपेल
उदयपुर .नए साल का जश्न मनाने देश-विदेश के हजारों सैलानी लेकसिटी के मेहमान बन चुके हैं। मौसम की खुशगवार रंगत और झीलों में ठहरे नीले पानी के अलावा चहुंओर आच्छादित अरावली उपत्यकाएं हर किसी को बरबस यहां खींच लाती हैं। साल के अंत में इन सैलानियों को दस दिन चलने वाले लोक शिल्प के उत्सव सहित नए आयोजन पुष्प प्रदर्शनी का आकर्षण विशेष आनंद देता है। ऐसे में टूरिस्ट सिटी के मेहमानों ने जब शहर की राहें नापीं तो एक बारगी लगा जैसे हर राह बाधित हो गई हो। बाजार हो या पर्यटन स्थल या फिर शिल्पग्राम का मेला प्रांगण हर जगह वाहनों और पर्यटकों की रेलमपेल देखी गईं।

 

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned