VIDEO : गिरी गाज, विधानसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ काम सामने आया

Mukesh Hingar

Publish: Jan, 01 2019 09:00:00 AM (IST)

Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर. पिछले दो साल से विवादों में रहे उदयपुर नगर निगम के एक पार्षद को आखिर भारतीय जनता पार्टी ने निलंबित कर दिया है। पार्टी ने उनको 6 साल के लिए निष्कासित करने की सिफारिश भी प्रदेश को भेजी है। भाजपा अम्बेडकर मण्डल अध्यक्ष अतुल चण्डालिया ने वार्ड सात के पार्षद बाबूलाल कटारा द्वारा विधानसभा चुनाव में शहर विधानसभा सीट को लेकर संगठन विरोधी गतिविधियों की विस्तृत जानकारी संगठन को दी जिस पर पार्टी ने मण्डल प्रभारी रविन्द्र श्रीमाली व शहर विधानसभा प्रभारी कुंतीलाल जैन ने जांच कर रिपोर्ट मांगी। श्रीमाली व जैन ने विस्तृत रिपोर्ट में पार्टी को मण्डल अध्यक्ष की शिकायत को जायज ठहराते हुए कटारा के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए उनके निष्कासन की अनुशंसा की। शहर जिलाध्यक्ष दिनेश भट्ट ने पार्षद कटारा को तुरन्त प्रभाव से पार्टी से निलम्बित किया व प्रदेश संगठन से इन्हें 6 वर्ष के लिये निष्कासन की अनुशंसा की।

दो साल से पार्टी को बता रहे थे हकीकत
कटारा विवादों में पिछले दो साल से थे। मंडल अध्यक्ष अतुल चंडालिया व पूर्व पार्षद कमलेश जावरिया से भी उनका विरोध कई बार सामने आया। चंडालिया व जावरिया ने तो पार्टी को खुलकर पूरी हकीकत बताई और कई मंचों पर विरोध भी जताया था। मंडल से विधानसभा चुनाव से पहले भी यह सिफारिश गई थी कि कटारा के खिलाफ कार्रवाई की जाए। विधानसभा चुनाव में कटारिया वहां 650 वोट से हारे थे।

मैने पार्टी नहीं आरएसएस के साथ काम किया
इस बारे में बाबूलाल कटारा ने एक बयान में कहा कि मैने पार्टी विरोधी काम नहीं किया। पार्टी के लोगों ने मुझे नहीं बुलाया था, मैने पार्टी के लिए आरएसएस के साथ मिलकर काम किया था। कटारा ने कहा कि उन्होंने कोई गलत काम नहीं किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned