हीफा ने खींचे हाथ, पाई-पाई को तरसने लगे उच्च शिक्षा संस्थान

- हायर एजुकेशन फइनेंसिंग एजेंसी- 25564 करोड़ स्वीकृत, मिले 5015 हजार करोड़

By: bhuvanesh pandya

Updated: 27 Nov 2019, 09:52 PM IST

भुवनेश पण्ड्या
उदयपुर. देश के उच्च शिक्षा संस्थानों को पूंजगत खर्चों के लिए ऋण देने के लिए गनी हीफा ने पहले तो स्वीकृति दे दी, लेकिन जब राशि देने की बारी आई तो हाथ खींच लिए, इससे अब देश के उच्च शिक्षा संस्थान पाई-पाई के लिए तरसने लगे हैं। छोटे-छोटे खर्चंे के लिए भी उन्हें सोचना पड़ रहा है।स्थिति यह है कि हायर एजुकेशन फ ाइनेंसिंग एजेंसी (हीफा) की सुस्ती ने ज्यादातर संस्थानों में काम की रफ्तार पर ब्रेक लगा दिया है। हीफ ा ने डेढ़ साल से अधिक समय में आईआईटी, आईआईएम और एम्स समेत 76 संस्थानों के लिए 25 हजार 564 करोड़ रुपए से अधिक का बजट स्वीकृत किया है, लेकिन इसमें से मात्र 5015 हजार करोड़ रुपए ही अब तक जारी किए गए हैं।इसलिए हीफा का गठन देश के 26 संस्थानों को तो एक भी रुपया जारी नहीं किया गया है। उच्च शिक्षा संस्थानों की पूंजीगत जरूरत पूरी करने के लिए हीफ ा का गठन किया गया था। मानव संसाधन विकास मंत्रालय और एक बड़े बहुराष्ट्रीय बैंक ने मिलकर इसकी स्थापना की है। इसमें वर्ष 2018 की शुरुआत में कर्ज देने का काम शुरू किया गया। डेढ़ साल बीतने के बाद आंकड़ों से पता चला है कि हीफा ने कर्ज तो खासा स्वीकृत कर दिया, लेकिन पैसे जारी करने में अब भी काफ ी पीछे है। हीफ ा ने सबसे अधिक 10 हजार 343 करोड़ रुपये विभिन्न आईआईटी के लिए स्वीकृत किए हैं, इसमें से 1770 करोड़ रुपए ही अब तक जारी किए गए हैं।तो बन सकता है बेहतर आधार राजस्थान में आईआईएम उदयपुर, आईआईटी जोधपुर, एम्स जोधपुर के लिए बड़े बजट की जरूरत है। यदि हीफा इन तीनों संस्थानों के लिए पोटली खोले तो और बेहतर आधार बन सकता है।आईआईएम के मामले में स्थिति और गंभीर है। प्रबंधन के इन शीर्ष संस्थानों के लिए हीफा ने 2804 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैंख् लेकिन सिर्फ 59.17 करोड़ रुपए ही जारी किए गए हैं। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हीफा बनाने के पीछे एक उद्देश्य ये भी था कि संस्थानों को समय से पैसा मिल सके, ताकि निर्माण की लागत न बढ़े। हीफा में निर्णय लेने में हो रही देरी इस उद्देश्य को धूमिल कर रही है।

किसे मिले कितने पैसेसंस्थान स्वीकृत राशि जारी राशि (करोड़ रुपए में)

आईआईटी 10343.60 1770.67

एम्स 6503.03 2572.14

एनआईटी 1842.25 345.84

आईआईएम 2804.09 59.17

अन्य 4071.55 267.25

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned