गर्भवती को अस्पताल ले जाने घर पहुंचे ‘भगवान’ , फिर भी नहीं हुई राजी

गर्भवती को अस्पताल ले जाने घर पहुंचे ‘भगवान’ , फिर भी नहीं हुई राजी

Madhulika Singh | Publish: Jul, 20 2019 06:26:11 PM (IST) | Updated: Jul, 20 2019 08:05:09 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

Hospital News: आखिर उसे अस्पताल के लिए मनाने को कलयुग के ‘भगवान’ यानि की डॉक्टर खुद घर पहुंचे। नहीं मानी तो प्रशासनिक अधिकारी भी समझाइश करने पहुंचे।

भुवनेश पंड्या/ उदयपुर . कोटड़ा Kotra उपखंड के कुकावास गांव की गर्भवती महिला। सेहत असामान्य, लेकिन उपचार के लिए अस्पताल नहीं जाना चाहती। आखिर उसे अस्पताल MB hospital udaipur के लिए मनाने को कलयुग के ‘भगवान’ यानि की डॉक्टर खुद घर पहुंचे। नहीं मानी तो प्रशासनिक अधिकारी भी समझाइश करने पहुंचे। फिर भी वह अस्पताल जाने को राजी नहीं हुई। महिला में हिमोग्लोबिन की कमी है और वह आठ माह से गर्भवती है। कुकावास निवासी हितारी (35) पत्नी वजाराम के 7 बच्चे हैं। वह 12वीं बार गर्भवती हुई है। क्षेत्र की डॉ. शुभमंगला बच्चों की स्वास्थ्य जांच के लिए पहुंची तो गर्भवती महिला के संस्थागत प्रसव Institutional delivery प्रक्रिया में नहीं होने की जानकारी मिली। उसे अस्पताल पहुंचने को कहा, लेकिन नहीं गई। आखिर तीन दिन से चिकित्सा विभागीय टीम घर जा रही है, लेकिन हितारी अस्पताल नहीं जाना चाहती। महिला को मनाने के लिए शुक्रवार को एसडीओ मानाराम मीणा समझाइश करने पहुंचे, फिर भी वह अस्पताल जाने को तैयार नहीं हुई।
इस दौरान खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी शंकरलाल चह्वाण और चिकित्सा विभागीय टीम के कर्मचारी मौजूद थे।

महिला में हीमोग्लोबिन की है कमी
गर्भवती महिला की जांच में सामने आया कि उसके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी है। रक्त की मात्रा 6.9 ग्राम पाई गई। ऐसी स्थिति में सुरक्षित प्रसव हो पाना मुश्किल है। आशंका के चलते उपखंड स्तरीय चिकित्सा अधिकारियों की ओर से महिला को उपचार के लिए उदयपुर भेजने के प्रयास किए जा रहे हैं।

घरेलू विवाद बना अनदेखी का कारण
महिला के ससुराल और पीहर पक्ष के बीच किसी बात को लेकर पुराना विवाद चल रहा है। महिला का पति और ससुराल पक्ष की ओर से कोई भी उसे अस्पताल ले जाने के लिए तैयार नहीं। ये भी बताया जा रहा है कि महिला के पीहर पक्ष के लोग उसे प्रसव के लिए गांव लेकर जाने वाले हैं।

तीन दिनों से महिला को उपचार के लिए उदयपुर ले जाने के प्रयास कर रहे है। उपखंड अधिकारी ने भी समझाईश की, लेकिन तैयार नहीं हुई।
शंकरलाल चव्हाण, खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी, कोटड़ा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned