अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ी उदयपुर अंडरग्राउंड पार्किंग, लिंक रोड, शक्तिनगर, आरसीए नई रोड व टाउनहॉल क्षेत्र में वाहनों की अवैध पार्किंग

अव्यवस्थाओं की भेंट चढ़ी उदयपुर अंडरग्राउंड पार्किंग, लिंक रोड, शक्तिनगर, आरसीए नई रोड व टाउनहॉल क्षेत्र में वाहनों की अवैध पार्किंग

Mukesh Hingar | Publish: Jan, 07 2018 12:49:48 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर . शहर में वाहनों की पार्किंग के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर नए स्थल विकसित करने की योजना पर कई सवाल खड़े हो गए हैं.

उदयपुर . शहर में वाहनों की पार्किंग के लिए करोड़ों रुपए खर्च कर नए स्थल विकसित करने की योजना पर कई सवाल खड़े हो गए हैं, क्योंकि शहर के बीच टाउन हॉल में चौदह करोड़ रुपए खर्च कर बनाए गए पार्किंग स्थल पर आखिरकार ठेकेदार ने घाटा बताते हुए ताला जड़ दिया है। नगर निगम व शहर की यातायात पुलिस की अवैध पार्किंग को रोकने में विफलता से ये हालात उत्पन्न हुए हैं। ठेकेदार फर्म ने एक माह पूर्व निगम को नोटिस दिया और शुक्रवार को पार्किंग बंद कर इसके दोनों गेट पर ताले जड़ दिए।

 

इसके साथ ही अब वहां वाहन पार्किंग सुविधा बंद हो गई है। खास बात यह है कि गत एक वर्ष में निगम और यातायात पुलिस इस पार्किंग के आसपास होने वाली अवैध पार्किंग को रोकने में फेल साबित हुई। फर्म ने निगम को कई पत्र लिखे और नुकसान का हवाला देते हुए बताया कि वाहन पार्किंग से प्राप्त राशि से खर्चे ही पूरे नहीं हो रहे हैं, मूल रकम और मुनाफा तो दूर की बात रही है। पार्किंग का ठेका करीब तेरह लाख रुपए सालाना दर पर दिया था। निगम के सामने अब नई मुसीबत यह है कि नई निविदा भी करें तो घाटा खाकर कौन ठेका लेने आएगा।

 


पार्क हाथ से गया और पार्किंग भी : टाउन हॉल में हाथीवाले पार्क को ध्वस्त कर वहां पार्किंग बनाई गई। इसके नहीं चल पाने पर क्षेत्रवासियों की प्रतिक्रिया है कि पार्क गया और पार्किंग भी फेल हो गई। अब न तो बड़े घूमने जा सकते हैं और न ही बच्चे।

 

READ MORE: VIDEO: आने वाली है मकर संक्रांति, बाजार में सजीं पतंगें, लुभा रही रंग-बिरंगी गेंदें और तिल के लड्डू

 

ऐसे कम की दर लेकिन खाली रहती पार्किंग
चारपहिया वाहनों का पार्किंग शुल्क 30 रुपए था जिसे 10 रुपए किया।
दुपहिया वाहनों का पार्किंग शुल्क 10 रुपए था जिसे पांच रुपए किया।
व्यापारियों के लिए मासिक पास शुल्क 900 रुपए प्रति माह किया।
मासिक पास आवासीय का शुल्क 1500 रुपए प्रति माह किया।

 


पार्किंग की खासियत
सीनियर सिटीजन को बेसमेंट से ऊपर हाइड्रोलिक लिफ्ट।
सीसी टीवी कैमरे से पूरी निगरानी।
पार्किंग की जानकारी बाहर ही डिस्पले पर प्रदर्शित होती।
फायर सेफ्टी से पूरा पार्किंग स्थल कवर।
वाहनों के धुएं को बाहर निकालने के प्रबंध। इलेक्ट्रिक पैनल रूम भी।

 

READ MORE: video : मिलिए, उदयपुर के कलाकार निर्मल यादव से, अनूठी है इनकी कला, आप भी देंगे दाद

 

हमने तो बहुत प्रयास किए थे
फर्म से अनुबंध के तहत पार्किंग चलाने में असमर्थता जताई है। अब नियमानुसार अगली प्रक्रिया अपनाकर पार्किंग शुरू करवाई जाएगी। रही बात घाटे की तो हमने अपने स्तर पर कई प्रयास किए हैं। शक्तिनगर की नई रोड से पुलिस के जरिए गाडिय़ां उठवाई है। जरूरत के अनुसार पार्किंग के मुख्य द्वार के बाहर कट खुलवाया है। इसके अलावा यातायात पुलिस को समय-समय पर अवैध पार्किंग से गाडिय़ां उठाने के लिए कहा है।
चन्द्रसिंह कोठारी, महापौर

 

इसलिए सफल नहीं हुई पार्किंग
पार्किंग स्थल के बाहर ही चारदीवारी के किनारे वाहनों की अवैध पार्किंग हो रही थी।
लिंक रोड, टाउन हॉल और बापूबाजार में आने वाले वाहनों की पार्किंग उसी क्षेत्र में अवैध रूप से हो रही थी।


शक्तिनगर में करोड़ों रुपए से बनाई नई सडक़ पर चारपहिया वाहनों की अवैध पार्किंग शुरू हो गई थी।
निगम परिसर में मेलों, प्रदर्शनी सहित अन्य आयोजनों में वाहनों की पार्किंग अंदर होती है। कई वाहन चालक तो परिसर में पार्किंग वहां कर चले जाते हैं। आरसीए से शक्तिनगर तक निकाली गई नई लिंक रोड पर भी वाहनों की अवैध पार्किंग शुरू हो गई।

 

फर्म बोली, हम तो हर बार झुके
ठेकेदार फर्म ने निगम के अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को बताया कि वे तय अनुबंध के बावजूद हर जगह झुके थे। तय शर्तों से दरें कम की, प्रचार-प्रचार करवाया लेकिन अवैध पार्किंग के खिलाफ कार्रवाई में सख्ती नहीं दिखाई। मुख्य पार्किंग के बाहर कई बार कहने के बाद कट खोला।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned