यहां जमीन विवाद पर गरमाया माहौल, कब्जे पर चलाई जेसीबी

घासा. ग्राम पंचायत रख्यावल में सर्वसमाज के लिए आवंटित जमीन पर सोमवार को अचानक से विवाद छिड़ गया।

By: jyoti Jain

Published: 26 Dec 2017, 05:04 PM IST

घासा. ग्राम पंचायत रख्यावल में सर्वसमाज के लिए आवंटित जमीन पर सोमवार को अचानक से विवाद छिड़ गया। कुछ लोगों ने जमीन पर बनी चारदीवारी को जेसीबी से तुड़वा दिया। घटनाक्रम को लेकर लोगों में आक्रोश है। इस संबंध में सर्व समाज की ओर से रिपोर्ट घासा थाने में दर्ज करवाई गई है।

 

एएसआई धनपुरी गोस्वामी ने बताया कि ग्राम पंचायत रख्यावल में मेघवाल, नाई, ब्राह्मण, लौहार समाज की ओर से रख्यावल शनिमहाराज मंदिर के पास स्थित आबादी भूमि में समाज के नोहरे, मदिंर के लिए जमीन है। कुछ समय पहले ही समाजजनों ने पंचायत में आवेदनकर नियमानुसार विकास शुल्क की राशि जमा कराकर भूमि पर चारदीवारी कार्य शुरू किया था। भूमि पर 5 फीट दीवार भी बना ली गई थी। सोमवार को मेघवाल समाज की ओर से कार्य करवाया जा रहा था। तब ही रख्यावल निवासी मांगीलाल पुत्र दोला डांगी, गंगाराम डांगी पुत्र जेता, रतनलाल डांगी, धुलीराम डांगी पुत्र रता डांगी, रूपलाल पटेल जेसीबी और डांगी समाज के 60-70 जनों के साथ पहुंचे। चारदीवारी गिराने लगे तो मजदूरों ने समाजजनों को सूचना दी।

 

READ MORE: पुलिस प्रशासन की सक्रियता से उदयपुर में बना रहा शांति का माहौल, बाइकर्स को देख यूं संभाली स्थिति

 

समाज के लोग मौके पर पहुंचे। दोनों पक्ष के लोगों में तीखी नोकझोंक हुई। डांगी समाज के लोग उत्तेजित हो गए और जेसीबी से चारदीवारी गिराना लगे। लोहार, ब्राह्मण, नाई समाज के लोग भी पहुंचे और डांगी समाजजनों को रोकना चाहा। सूचना पर एएसआई, हेडकास्टेंबल आजादसिंह पहुंचे और समझाइश की। सर्व समाजजनों ने बताया कि कार्रवाई में करीब 5 लाख रुपए का नुकसान हुआ। इस पर घासा थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई। मामले की जांच वल्लभनगर डिप्टी घनश्याम शर्मा को दी गई।

 

इनका कहना...
जमीन पर लम्बे समय से समाजों के कब्जे हैं। यह आबादी भूमि है, पट्टे वितरण की प्रक्रिया पंचायत स्तर पर प्रस्तावित है। कुछ ग्रामीणों को निर्माण तोडऩे का अधिकार नहीं है।
सुमित्रा राव, सरपंच, रख्यावल

 

jyoti Jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned