वकीलों ने जुलूस निकाला, कामकाज ठप

- एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. अधिवक्ताओं पर लगातार हो रहे हमलों, लखनऊ स्थित कोर्ट में बम फेंकने, भींडर एवं छोटी सादड़ी में अधिवक्ताओं पर हुए हमले के विरोध में वकीलों ने शुक्रवार को शहर में जुलूस निकाला व कामकाज ठप रखा।
साथ ही मुख्यमंत्री के नाम जिला कलक्टर आनंदी को ज्ञापन देकर एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट शीघ्र लागू करने की मांग की। वकीलों ने संभाग भर में न्यायिक कार्यो का बहिष्कार किया। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मनीष शर्मा ने बताया कि जिला न्यायालय परिसर में सभी अधिवक्ताओं ने कामकाज का बहिष्कार किया और जुलूस के रूप में कलक्ट्रेट पहुंचे व ज्ञापन सौंपा। इसमें घायल अधिवक्ताओं को उच्च श्रेणी के चिकित्सालयों में समुचित चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने, उनके परिजनों को स्वतन्त्र एजेन्सी से सुरक्षा प्रदान कराने, तालुका एवं जिला स्तर के न्यायालयों सहित किसी भी अदालत में ऐसी घटनाएं रोकने के लिए पुलिस एजेंसियों को निर्देश देने, दोषी व्यक्तियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई कर कठोर सजा दिलाने की मांग की गई। इसके अलावा घायल अधिवक्ताओं को पर्याप्त क्षतिपूर्ति राशि दिलाने, राज्य सरकार के पास लम्बित अधिवक्ता संरक्षण अधिनियम को विधानसभा का विशेष सत्र बुला कर तत्काल प्रभाव से सम्पूर्ण राज्य में प्रावधानों को लागू करने आदि मांग भी की गई। ज्ञापन में एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट जल्द से जल्द पास करवा कर अधिवक्ताओं को सुरक्षा प्रदान कराने का आग्रह किया गया। ज्ञापन देने के दौरान महासचिव चक्रवर्ती सिंह राव, उपाध्यक्ष नीलाश द्विवेदी, सचिव राजेश वर्मा, वित्त सचिव पृथ्वीराज तेली एवं पुस्तकालय सचिव धीरज व्यास के साथ पूर्व अध्यक्षों में रमेश नंदवाना, शांतिलाल पामेचा, रतन सिंह राव, शंभू सिंह राठौड़, भरत वैष्णव, रामकृपा शर्मा, महेंद्र नागदा, वरिष्ठ अधिवक्ता सत्येंद्र सिंह छाबड़ा सहित कई वकील मौजूद थे।

bhuvanesh pandya Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned