अनपढ़ मतदाताओं से भी गए-गुजरे साबित हुए शिक्षित, पढ़े-लिखे कर्मचारियों के हुए वोट खारिज

12.50 प्रतिशत वोट खारिज, 899 डाक मतपत्र खारिज

उदयपुर. पढ़े-लिखे सरकारी कर्मचारी चुनाव में आदिवासी क्षेत्रों के अनपढ़ मतदाताओं से भी गए-गुजरे साबित हुए। डाक मतपत्र के माध्यम से दिए गए वोट में से करीब 12.50 प्रतिशत मत खारिज हो गए जबकि ईवीएम से दिए गए मतों में से आठों विधानसभा क्षेत्रों में एक भी मत खारिज नहीं हुआ। डाक मतपत्र की बात करें तो कुल 7214 मतों में से 6280 मत वैध पाए गए। 899 मतों को विभिन्न कारणों से खारिज की श्रेणी में रखा गया।

ये कारण हैं खारिज होने के

- निर्वाचक की घोषणा पर हस्ताक्षर नहीं होने पर

- राजपत्रित अधिकारी से हस्ताक्षर प्रमाणित नहीं होना
- मतपत्र के क्रमांक लिखने में त्रुटि

- मत जिस प्रत्याशी को दिया जा रहा है, उस पर निशान नहीं लगाना

- एक से अधिक व्यक्ति को मत देना
- मत किसको दिया गया है, यह पता नहीं लगना

कर्मचारी भी सरकार के साथ

प्रत्याशी ... पार्टी ... डाक मतपत्र
अर्जुनलाल मीणा ... भाजपा ... 3854

केसूलाल मीणा ... बीएसपी ... 15
घनश्याम सिंह तंवर ... सीपीआई ... 8

रघुवीरसिंह मीणा ... कांग्रेस ... 1674
किका मीणा ... सीपीआईएम ... 2

परभुलाल मीणा ... बीएमयूपी ... 34
बिरधीलाल छानवाल ... बीटीपी ... 690

शंकरलाल ... सेटबीपी ... 1
हरजीलाल मीणा ... एपीओआई ... 2

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned