scriptMahatma Gandhi English Medium School In Udaipur, Hindi Medium Students | अंग्रेजी के सुनहरे भविष्य के लिए हिंदी का वर्तमान खतरे में, बच्चों की पढ़ाई पर संकट | Patrika News

अंग्रेजी के सुनहरे भविष्य के लिए हिंदी का वर्तमान खतरे में, बच्चों की पढ़ाई पर संकट

Mahatma Gandhi English Medium School हिंदी से अंग्रेजी मीडियम में क्रमोन्नत हुए स्कूलों को लेकर उठ रहे विरोध के स्वर, हिंदी के साथ अंग्रेजी को भी चलाने की मांग, बच्चों को अन्यत्र स्कूलों में शिफ्ट करने से कई बच्चे होंगे पढ़ाई से दूर

उदयपुर

Updated: July 31, 2022 03:32:59 pm

केस 1 : राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय वार्ड 41 पुरोहितों की मादड़ी को महात्मा गांधी अंग्रेेेेेेेेजी मीडियम में क्रमोन्नत किया गया है, लेकिन वार्ड वासियों की मांग है कि राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय को यथावत रखते हुए दूसरी पारी में या इसी परिसर में नए भवन का निर्माण कर इसे संचालित किया जाए। इसके लिए वार्डवासियों ने शिक्षा मंत्री को पत्र प्रेषित किया है।
Mahatma Gandhi School
Mahatma Gandhi School
केस 2 : राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पहाड़ा गिर्वा को दो पारी में अंग्रेजी व हिन्दी दोनों मीडियम में संचालित करने की मांग की जा रही है। इसके लिए प्रतिनिधिमंडल पूर्व सांसद से मिल चुका है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि उक्त विद्यालय पूर्व में ही तीन विद्यालय को मर्ज करके बनाया गया था, ऐसे में इस विद्यालय के 5 किलोमीटर की परिधि में कोई विद्यालय नहीं है। जिनसे हिन्दी माध्यम के छात्र पढ़ाई छोड़ने को मजबूर हो जाएंगे।
केस 3 : महात्मा गांधी अंग्रेजी स्कूल, एकलव्य कॉलोनी, मल्ला तलाई को भी हिंदी से अंग्रेजी माध्यम किया गया है। क्षेत्रवासियों की मांग है कि यहां करीब 350 से अधिक विद्यार्थी पढ़ते हैं । इनमें 180 बच्चे हिंदी मीडियम के हैं, जिन्हें दूसरे स्कूल में शिफ्ट होना पड़ेगा। इसके कारण कई विद्यार्थी पढ़ाई मजबूरी में छोड़ देंगे। ऐसे में हिंदी व अंग्रेजी मीडियम दोनों ही इसी स्कूल में विभिन्न पारियों में चलाया जाए ताकि बच्चों को किसी तरह की समस्या नहीं आए।
Mahatma Gandhi English Medium School महात्मा गांधी अंग्रेजी मीडियम स्कूल खोलने के पीछे सरकार भले ही विद्यार्थियों का उज्ज्वल भविष्य देख रही हो, लेकिन इन स्कूलों को लेकर आधी-अधूरी तैयारी विद्यार्थियों के वर्तमान पर भारी पड़ रही है। दरअसल, प्रदेश में कई हिंदी स्कूलों को अंग्रेजी स्कूलों में क्रमोन्नत कर दिया गया है। लेकिन कई सरकारी स्कूल ऐसे हैं जहां विरोध के स्वर उठने लगे हैं। उदयपुर के कई स्कूलों में ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। वहां के क्षेत्रवासियों और अभिभावक बच्चों को दूसरे स्कूल में भेजना नहीं चाहते हैं और उसी स्कूल में दो पारियों में अंग्रेजी व हिंदी माध्यम चलाने की मांग कर रहे हैं। वहीं, स्कूलों में हालात यह है कि अभी अंग्रेजी और हिंदी माध्यम के दोनों बच्चों को साथ बैठाने के लिए स्कूलों में जगह कम पड़ रही है। अंग्रेजी माध्यम स्कूलों में स्टाफ भी पूरा नहीं है, अब तक साक्षात्कार प्रक्रिया का दौर चल रहा है। ऐसे में बच्चों को इसका खमियाजा भुगतना पड़ रहा है, उनकी पढ़ाई प्रभावित हो रही है।
जुलाई बीता, लेकिन पढ़ाई के बजाय हिंदी व अंग्रेजी की जंग

जुलाई माह शिक्षण सत्र का सबसे महत्वपूर्ण माह होता है। इसमें सितंबर में आयोजित होने वाली प्रथम परख को देखते हुए कोर्स कराना होता है। प्रथम परख में लगभग 45 प्रतिशत तक कोर्स हो जाना चाहिए। इसी के आधार पर परख का आयोजन होता है। वहीं, इस माह तो अधिकांश स्कूलों में हिंदी व अंग्रेजी की जंग छिड़ी हुई है। स्कूलों में पढ़ाई हिंदी में होगी या अंग्रेजी में इसे लेकर विद्यार्थियों का भविष्य अधरझूल में है। अभी स्कूलों में हिंदी व अंग्रेजी के बच्चे साथ ही पढ़ रहे हैं और शिक्षक भी असमंजस में हैं कि अंग्रेजी में पढ़ाई कराई जाए या हिंदी में। अब तक कई स्कूलों में अंग्रेजी का स्टाफ भी नहीं आया है। साक्षात्कार की प्रक्रिया 1 व 2 अगस्त को विभाग की ओर से की जा रही है।
ये आ रही समस्याएं -

1. अंग्रेजी विद्यालय से अन्य सरकारी विद्यालय ज्यादा दूरी पर है तो अभिभावक बच्चों को भेजने में असमर्थ हैं, जिससे कई विद्यार्थियों का भविष्य अंधकारमय हो सकता है।
2.विद्यालय भवनों में कमरों की संख्या पहले से ही काफी कम है। ऐसे में एक साथ अंग्रेजी व हिंदी के बच्चों को बैठाना संभव नहीं है।3. कई हिंदी के विद्यार्थियों को अंग्रेजी मीडियम में ही पढ़ने पर मजबूर होना होगा क्याेंकि वे अन्यत्र नहीं जाना चाहते। ऐसे में अंग्रेजी मीडियम चुनने वालों की पढ़ाई प्रभावित होगी।
4. कई स्कूलों में हिंदी मीडियम के विद्यार्थी अधिक हैं तो ऐसे में अभिभावक मांग कर रहे हैं कि वह स्कूल हिंदी ही रहने दिया जाए। अंग्रेजी वालों को कहीं ओर भेजा जाए।5. कई ग्रामीण क्षेत्रों में बालिका विद्यालय में बालिकाओं के लिए आसपास बालिका विद्यालय नहीं मिल रहा है , ऐसे में उन की पढ़ाई भी प्रभावित होनी स्वाभाविक है।
6 . अंग्रेजी शिक्षकों के स्टाफ की कमी है।

इनका कहना है...

वर्तमान में 12 स्कूल अंग्रेजी मीडियम में क्रमोन्नत किए गए हैं, जिसमें से 8 से 9 विद्यालयों में दो पारियों में हिंदी व अंग्रेजी चलाने के प्रस्ताव मिले हैं। इन प्रस्तावों को हमने शिक्षा निदेशालय बीकानेर को भिजवा दिया है। वहां से निर्णय होने के बाद ही कदम उठाए जाएंगे।
मुकेश पालीवाल, जिला शिक्षा अधिकारी, माध्यमिक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

जाने-माने लेखक सलमान रुश्दी पर न्यूयॉर्क में जानलेवा हमला, चाकुओं से गोदकर किया घायलमनीष सिसोदिया का BJP पर निशाना, कहा - 'रेवड़ी बोलकर मजाक उड़ाने वाले चला रहे दोस्तवादी मॉडल'सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद बोले तेजस्वी यादव- 'नीतीश जी का हमसे हाथ मिलाना BJP के मुंह पर तमाचे की तरह''स्मोक वार्निंग' के कारण मालदीव जा रही 'गो फर्स्ट' की फ्लाइट की हुई कोयंबटूर में इमरजेंसी लैंडिंगHimachal Pradesh News: रामपुर के रनपु गांव में लैंडस्लाइड से एक महिला की मौत, 4 घायलMaharashtra Politics: चंद्रशेखर बावनकुले बने महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष, आशीष शेलार को मिली मुंबई की कमानममता बनर्जी को बड़ा झटका, TMC के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने पार्टी से दिया इस्तीफामाकपा विधायक ने दिया विवादित बयान, जम्मू-कश्मीर को बताया 'भारत अधिकृत जम्मू-कश्मीर'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.