scriptMalnutrition attack in Kovid: Record treatment of 860 children of MP i | कोविड में कुपोषण का अटैक: प्रदेश के 12 जिलों सहित एमपी के 860 बच्चों का रिकॉर्ड उपचार | Patrika News

कोविड में कुपोषण का अटैक: प्रदेश के 12 जिलों सहित एमपी के 860 बच्चों का रिकॉर्ड उपचार

- महाराणा भूपाल हॉस्पिटल - बीते एक वर्ष में सामने आए बड़ी संख्या में बच्चे

उदयपुर

Published: December 23, 2021 09:00:44 am

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. कोरोनाकाल में भी कुपोषण का अटैक तेज था, लेकिन उदयपुर के महाराणा भूपाल हॉस्पिटल के बाल चिकित्सा लय के कुपोषण उपचार केन्द्र जैसे इन कुपोषित बच्चों के लिए वरदान साबित हुआ। बीते एक वर्ष (नवम्बर 2020 से अक्टूबर 21) तक रिकॉर्ड 860 बच्चों का उपचार किया गया है। एमबी हॉस्पिटल के इस उपचार केन्द्र पर ना केवल उदयपुर संभाग बल्कि प्रदेश के 12 जिलों व मध्यप्रदेश के मन्दसौर, नीमच और रतलाम तक के बच्चों के उपचार किए गए हैं।
video : उदयपुर के MB Hospital में आग लगने का ये कारण आया सामने, सुनें डॉक्‍टर क्‍या बोले...
video : उदयपुर के MB Hospital में आग लगने का ये कारण आया सामने, सुनें डॉक्‍टर क्‍या बोले...
---------------

वर्ष 2008 में हुई शुरुआत- 2014 में नयापन

- एमबी में इस कुपोषण उपचार केन्द्र की शुरुआत वर्ष 2008 में हुई थी, लेकिन इसमें नयापन करते हुए इसे अलग ही एक केन्द्र के रूप में तैयार किया गया। तब से अब तक इस केन्द्र पर 10 हजार 177 कुपोषित बच्चों का उपचार हो चुका है।
- इस केन्द्र पर उदयपुर के अलावा अजमेर, बांसवाड़ा, बाड़मेर, भीलवाड़ा, चित्तौडगढ़़, डूंगरपुर, पाली, प्रतापगढ़, राजसमन्द, सिरोही व टोंक तक के बच्चों को लाया जाता है।

- बच्चों के निशुल्क इलाज जांच, पोषण, माता-पिता के ठहरने की सुविधा क्षतिपूर्ति के साथ ही सभी तरह की सेवाएं दी जाती है। बच्चे में दुबारा कुपोषण नहीं हो इसके लिए भी रोजाना अभिभावकों को परामर्श भी दिया जाता है। यहां सुविधा है कि कोई भी दुबला-पतला बच्चा यदि कोई कुपोषित है तो संभागीय स्तर के अस्पताल में लाकर दाखिला दिलवाया जा सकेगा।
-----

ये देखना होता है उपचार में

- घरों पर अभिभावक अपने बच्चे की बाएं हाथ की मध्य की गोलाई यदि 11 पॉइंट 5 से कम है या दोनों पैरों में सूजन है ऐसे बच्चों को इस केंद्र पर लाकर भर्ती करा सकते हैं। सभी अपने बच्चे को खानपान के लिए विशेष ध्यान दें बच्चे का रेगुलर चेकअप कराते रहें। जिससे कि कुपोषण से बचा जा सके। राज्य सरकार एवं यूनिसेफ के सहयोग से बाल चिकित्सालय में रीजनल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस स्थापित किया हुआ है। जिसके तहत पूरे संभाग भर के न्यूट्रिशन प्रोग्राम की मॉनिटरिंग की जाती है।
-----

प्रदेश में कुल 40 कुपोषण उपचार केन्द्र हैं, लेकिन कोविड-19 परिस्थितियों में उदयपुर में रिकॉर्ड 860 बच्चों का उपचार किया गया है। शुरुआत से अब तक 10177 कुपोषित बच्चों का उपचार हो चुका है। हमारा प्रयास लगातार जारी है, कि बच्चों को बेहतर उपचार मिल सके।
डॉ आर एल सुमन, अधीक्षक एमबी हॉस्पिटल उदयपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.