खुशहाल ज‍िंंदगी के गठबंधन से पहले हुआ मास्‍क बंधन, सेनि‍टाइजर्स भी रहे सबके साथ

दूल्हा-दुल्हन से लेकर हर बाराती दिखा मास्क में, तोरण पर हुई बारात की रस्में, शहर में देव उठनी एकादशी के अबूझ मुहूर्त पर शहर में हुए कई विवाह

By: madhulika singh

Published: 26 Nov 2020, 03:58 PM IST

उदयपुर. विवाह दो लोगों व परिवारों की खुशहाल जिंदगी का गठबंधन होता है और इस गठबंधन के साथ इस साल मास्क बंधन भी एक अनिवार्य बंधन के रूप में दिखा। शादियों में दूल्हा-दुल्हन से लेकर बाराती और शादी में आने वाला हर मेहमान मास्क में दिखाई दिया। देवउठनी एकादशी के अबूझ मुहूर्त पर शहर में कई शादियां थीं, असके लिए प्रशासन से अनुमति ली गई थी। कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए शादियों के लिए जारी गाइडलाइंस का लोगों ने पूरा ध्यान रखा।


दिन में हुए कई आयोजन, बैंडबाजों की स्वरलहरियां भी अधिक देर नहीं गूंजी

कोविड गाइडलाइंस और नाइट कफ्र्यू को देखते हुए इस साल कई आयोजन शादी वाले घरों में दिन में ही कर लिए गए। सुबह से ही शादी वाले घरों के बाहर शगुन के ढोल बजने लगे। कई रस्में और कार्यक्रम रात के बजाय लोगों ने दिन में करना बेहतर समझा। इसलिए शहर की कई वाटिकाएं, मैरिज हॉल, गार्डन्स में दिन में भी खूब चहल-पहल दिखाई दी। हालांकि इस बार पहले जैसे सडक़ों पर नाचते-गाते बारातियों के नजारें नजर नहीं आए। लोगों ने बारात केवल आयोजन स्थल पर ही कुछ दूर के लिए निकाली ताकि वो रस्म पूरी हो जाए। वहीं, बैंड-बाजों की स्वर लहरियां भी सीमित समय के लिए ही गूंजीं।

सीमित मेहमानों को ही न्योता
लोगों ने कोरोना गाइडलाइंस की पालना करते हुए सीमित संख्या में ही मेहमानों को बुलाया। देवउठनी एकादशी से सावों की शुरुआत हो चुकी है और अभी 27 नवंबर, 30 नवंबर के बाद दिसंबर में 1, 7, 9, 10 दिसंबर को मुहूर्त हैं। ऐसे में इन दिनों भी कई विवाह होने हैं जिनके लिए भी प्रशासन के पास अनुमति के लिए सूचना भिजवा दी गई है।

Corona virus
Show More
madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned