VIDEO: सुविवि दीक्षांत समारोह में मांगीलाल गरासिया ने अपने जीवन से जुड़ी बताई ये बड़ी बात

bhuvanesh pandya | Publish: Dec, 23 2017 03:01:03 PM (IST) | Updated: Dec, 23 2017 04:20:30 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर. मोहनलाल सुखाडि़या विश्वविद्यालय का 25 वाँ दीक्षांत समारोह शनिवार को विवेकानंद सभागार में दोपहर को शुरू हुआ।

उदयपुर . मोहनलाल सुखाडि़या विश्वविद्यालय का 25 वाँ दीक्षांत समारोह शनिवार को विवेकानंद सभागार में दोपहर को शुरू हुआ। राज्यपाल कल्याण सिंह ने पहले डॉक्टर ऑफ फिलोसॉफी की उपाधियां दी। पहले कुलपति जेपी शर्मा ने प्रतिवेदन दिया फिर वाणिज्य संकाय में डॉक्टर की उपाधि, सामाजिक विज्ञान संकाय में डॉक्टर की स्नातक डिग्री ली। पूर्व मंत्री माँगीलाल गरासिया ने भी सामाजिक विज्ञान में डिग्री ली। गरसिया ने पत्रिका से विशेष बातचीत में कहा की मन की ताकत से हर काम आसान हो जाता है, राजनीति से हटकर ये मेरा दूसरा पहलू था कि शिक्षण में भी अपना बेहतर नाम हो।

 

READ MORE: दो दिन से गायब इस नर्सेज कर्मचारी के कमरे में जब दोस्त ने झांक कर देखा तो उड़ गए होश

 

दीक्षांत समारोह में स्वर्ण पदक: विनिमा झाँगिड, निखिल चौधरी, प्राची बंधु, पुष्पु जोशी, मोनिका राठौड़, प्रियंका चौहान को अलग अलग विषयों में दिया गया। इसी तरह 2016 हर्षिता, भारत मेघवाल, श्रुति, तनुश्री को भी अलग अलग विषयों में स्वर्ण पदक दिया गया।

 

READ MORE: video: एमपीयूएटी का 11वां दीक्षांत समारोह, 38 को मिला गोल्ड मैडल

 

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास अध्यक्ष बलदेव भाई ने कहा कि इस देश की शुरुआत इसलिए हुई है की हम पूरी दुनिया को मनुष्यता का ज्ञान दें। शिक्षा जीवन का विकास कर नर से नारायण बनाती है। स्वामी विवेकानंद ने कहा कि शिक्षा मानव में देवत्व की शुरुआत करती है। उन्होंने महाभारत का एक प्रसंग सुनाया और कहा कि सत्य की परिभाषा क्या है। शिक्षित व्यक्ति में ईश्वर की ओर ले जाने की शक्ति होती है।

 

 

MLSU convocation ceremony udaipur

इस मौके पर राज्यपाल कल्याणसिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय ज्ञान के केंद्र है, लेकिन हमें इसे कौशल विकास केंद्र भी बनाना है। सामाजिक भागीदारी बढ़ानी चाहिए, ताकि आम लोगों को भी शोध का फायदा मिले। सिंह ने कहा की गाँव को गोद लेने की योजना का लाभ मिल रहा है। विवि को उपलब्ध संसाधनों में पढाकर गुणवत्ता का ध्यान रखना है। विवि का दायित्व सामाजिक सरोकारों से जुड़ना चाहिए। समाज विज्ञान संकाय एसे मुद्दों का चयन करें। आपसी बातचीत व सम्भाशन में संयमित व विनम्रता की कमी है लेकिन अर्थपूर्ण, गम्भीर कला नई पीढ़ी में आए ये शिक्षा की सफलता है।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned