कोरोना की पाश में प्रदेश के एक हजार से अधिक डॉक्टर, 19 की गई जान, प्लाज्मा देने में पीछे रहा 'जीवनदाता

- कुल 1145 डॉक्टर संक्रमित- 1128 में से केवल 35 चिकित्सकों ने किया प्लाज्मा दान

By: bhuvanesh pandya

Published: 29 Nov 2020, 08:08 AM IST

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. कोरोना वायरस आमजन के साथ-साथ चिकित्साकर्मियों के लिए भी जानलेवा साबित हो रहा है। कोरोना ने मार्च 2020 से अब तक प्रदेश के 1145 चिकित्सकों को चपेट में लिया है, वहीं 19 चिकित्सकों को काल का ग्रास बनाया है। साथ ही प्रदेश में कई नर्सिंगकर्मी व लेब टेक्नीशियन की मौत हो चुकी है। जिसमें से उदयपुर जिले में करीब 350 से अधिक नर्सेज संक्रमित हो चुके हैं। हाल में भीलवाड़ा के महात्मा गांधी अस्पताल में वरिष्ठ लेब टेक्नीशियन की मौत हुई है। उधर, संक्रमण से ठीक हो चुके एक हजार से अधिक चिकित्सकों में से केवल 35 डॉक्टर ने प्लाज्मा दान किया है। जोधपुर में 12 और उदयपुर में 11 चिकित्सकों ने प्लाज्मा दिया है। कुछ जिलों के हाल तो इससे भी बुरे हैं, क्योंकि यहां प्लाज्मा देने तक की सुविधा नहीं है। पाली जिले में सर्वाधिक 6 चिकित्सकों की मौत हो चुकी है, जबकि जयपुर में तीन चिकित्सक कोरोना में काल का शिकार हुए हैं।

-----------

जिला- कोरोना संक्रमित चिकित्सक - मौत

जयपुर- 150- 03

उदयपुर- 200- 00

जोधपुर- 212- 01

कोटा- 200- 00

बीकानेर-19- 01

अजमेर- 42- 01

अलवर-27- 02

झुंझुनूं- 07- 02

चित्तौडगढ़- 13- 01

पाली-83-06

श्रीगंगानगर-27-02

सीकर- 21-00

करौली-08- 00

बाड़मेर- 15- 00

जैसलमेर-04- 00

प्रतापगढ़- 07-- 00

हनुमानगढ़- 15-- 00

झालावाड़-60--- 00

भीलवाड़ा- 24- 00

बांसवाड़ा- 26- 00

----------------

केवल इतने जिलो में डॉक्टरों ने दिया प्लाज्मा

- कुल 35

उदयपुर- 11

जोधपुर- 12

कोटा- 06

बीकानेर- 05

अजमेर- 01

----

नहीं है पर्याप्त संसाधन सरकारी अस्पतालों में काम करने वाले चिकित्सक, नर्सिंगकर्मी व लेब टेक्नीशियन के पास पर्याप्त सुरक्षा के संसाधन नहीं है। ऐसे में कोरोना के मरीजों का उपचार करते हुए खुद संक्रमित हो चुके हैं। यही वजह है कि प्रदेश में एक हजार से अधिक चिकित्सक कोरोना की चपेट में आ गए।

-----------

बड़ा सवाल: संक्रमण की चपेट में क्यों कोरोना मरीजों का उपचार करते समय चिकित्सक पीपीई किट्स पहनकर काम करते हैं। वे सुरक्षा उपायों का पूरा ध्यान र खते हैं। ऐसे में वे संक्रमित कैसे हो रहे हैं, यह चिंता का विषय है। ज्यादातर चिकित्सक के संक्रमित होने का कारण है कि उनके पास जो मरीज चेकअप के लिए आए उनके संपर्क में आने से ही कोरोना के शिकार हुए हैं।

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned