राजस्‍थान का ये कृृ‍ष‍ि व‍िव‍ि कभी रहता था 1 नम्बर पर, अब 50 पायदान लुढ़क कर पहुंचा 51वें पर

महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय का 21 वां स्थापना दिवस, रेंकिंग सुधार का लिया संकल्प

By: madhulika singh

Published: 03 Dec 2019, 03:49 PM IST

उदयपुर. महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय शैक्षिक व गैर शैक्षिक कर्मचारियों की कमी से जूझ रहा है। इसका असर यह पड़ा कि किसी समय 1 नम्बर पर रहने वाला विश्वविद्यालय अब 51वें स्थान पर पहुंच गया है। इसमें सुधार के प्रयास सभी को मिलकर करने होंगे। यह बात कुलपति प्रो. एनएस राठौड़ ने सोमवार को विश्वविद्यालय के 21 वें स्थापना दिवस समारोह में कही। सीटीएई एवीपी हॉल में आयोजित इस कार्यक्रम पूर्व कुलपति प्रो.वीबी सिंह, प्रो. पीके दशोरा, प्रो.उमाशंकर शर्मा व सभी पूर्व अधिष्ठाता, निदेशक तथा एमपीयूएटी के उच्चाधिकारी, फैकल्टी, शैक्षणेत्तर कर्मचारी, किसान और विद्यार्थी उपस्थित थे।

कुलपति ने कहा कि आज विश्वविद्यालय के सामने कई चुनौतियां हैं, जिसे हमें पूर्ण करना है। राज्य सरकार की ओर से 1 करोड़ की वित्तीय सहायता के साथ स्वीकृत विश्वविद्यालय की आईसीएआर रेंकिंग प्रारम्भ मे बहुत अच्छी थी परन्तु स्टाफ व फैकल्टी की कमी व विश्वविद्यालय परिक्षेत्र के निरन्तर बंटवारे से विश्वविद्यालय की रेंकिंग 51वें नम्बर पर है, इसमें सुधार करने की महती आवश्यकता है। इसके लिए सभी पूर्व कुलपतियों, अधिष्ठाता, निदेशकों, कर्मचारियों का मार्गदर्शन एवं सहयोग लेकर प्रयास करना होगा। विश्वविद्यालय में मात्र 22 प्रतिशत टीचिंग स्टाफ एवं 33 प्रतिशत नॉन-टीचिंग स्टाफ उपलब्ध है।

कृषि उपकरण वितरित
स्थापना दिवस पर अखिल भारतीय समन्वित अनुसंधान परियोजना के अन्वेषक डॉ. विरेन्द्र की ओर से खेरवाड़ा तहसील के अनुसूचित जाति के 45 कृषक महिलाओं व किसानों को बैटरी चालित उन्नत स्प्रेयर मशीन (दवाई छिडकऩे) की वितरित की गई। अनुसंधान निदेशक डॉ. अभय कुमार मेहता ने अब तक हुए विकास कार्यों व अनुसंधान उपलब्धियों का ब्योरा प्रस्तुत किया।

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned