नवरात्र होंगे आठ दिन के, ‘अश्‍व’ पर सवार होकर आएगी देवी

नवरात्र 17 से होंगे शुरू और 24 तक रहेंगे, 25 को मनाया जाएगा विजयादशमी पर्व

By: madhulika singh

Published: 08 Oct 2020, 01:00 PM IST

उदयपुर. अधिक मास की समाप्ति के बाद शक्ति की आराधना का पर्व नवरात्र शुरू होने जा रहा है। इस वर्ष आश्विन नवरात्र 17 से 24 अक्टूबर तक रहेंगे और उसके अगले दिन 25 अक्टूबर को विजयादशमी (दशहरा) मनाई जाएगी। ऐसा योग इस बार तिथियों में उतार-चढ़ाव होने से बना है। यह नवरात्र आठ दिवस की रहेगी। इस नवरात्र में देवी भगवती पृथ्वी पर अश्व की सवारी से आएगी।


अष्टमी 23 व नवमी 24 को

ज्योतिषाचार्य पं. जितेंद्र त्रिवेदी जोनी के अनुसार नवरात्र शनिवार के दिन मंगल के नक्षत्र के ऊपर राहु के नक्षत्र अर्थात चित्रा व स्वाति नक्षत्र में आरंभ होंगे। इसमें सप्तमी पर अष्टमी व अष्टमी पर महानवमी रहेगी। इस में धर्म सिंधु के निर्णय अनुसार और श्रीधरि पंचांग के अनुसार, सप्तमी पर अष्टमी का त्याग करना उचित है, लेकिन वहीं जब सप्तमी तिथि एक घटी से भी कम हो तो अष्टमी उसी दिन मनाना शास्त्र सम्मत है। अत: अष्टमी शुक्रवार 23 अक्टूबर को होगी तथा महानवमी 24 अक्टूबर को मान्य रहेगी। लेकिन कई जगह मत मतान्तरों के कारण 24 अक्टूबर को भी अष्टमी करेंगे और 25 अक्टूबर को नवमी होगी।

भगवती का वाहन ‘अश्व’ है युद्ध और रफ्तार का प्रतीक
पं. त्रिवेदी के अनुसार इस बार देवी भगवती अश्व की सवारी से आएगी। यह नवरात्र देश में कहीं ना कहीं उथल पुथल का संकेत देता है क्योंकि घोड़ा युद्ध और रफ्तार का प्रतीक है। जब नवरात्र शनिवार व मंगलवार से आरंभ होती है तब भगवती का वाहन घोड़ा रहता है और इससे स्पष्ट होता है कि इस वर्ष आस-पड़ोस के देशों से युद्ध, भय व महामारी का प्रकोप बना रहेगा।

नवरात्र स्थापना के मुहूर्त
प्रात: 8.12 से 9.37 तक शुभ का चौघडिय़ा, मध्याह्न काल में 12 से 12.46 तक अभिजीत वेला में घट स्थापना करना शुभ रहेगा। साथ ही विजयादशमी पर्व 25 अक्टूबर रविवार को मान्य रहेगा। यह दिन अबूझ मुहूर्त व सर्व सिद्धि दायक होता है।

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned