नेट की पहली परीक्षा दिसम्बर, दूसरी जुलाई में.. इस साल से होने जा रहा है बड़ा बदलाव, इस तरह होगा नया एग्जाम पैटर्न

नेट की पहली परीक्षा दिसम्बर, दूसरी जुलाई में.. इस साल से होने जा रहा है बड़ा बदलाव, इस तरह होगा नया एग्जाम पैटर्न

madhulika singh | Publish: Sep, 03 2018 04:22:26 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

भुवनेश पंड्या/ उदयपुर. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी की ओर से एक सितम्बर से दिसंबर 2018 की नेट परीक्षा के लिए आवेदन शुरू हो गया है, जो 30 सितंबर तक जारी रहेगा। इस साल से नेट का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा। पहली परीक्षा का आयोजन 9 से 23 दिसंबर, 2018 तक और दूसरी का आयोजन जुलाई 2019 में किया जाएगा। 19 नवंबर से एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे और रिजल्ट 10 जनवरी, 2019 को आएगा। नीट को छोडकऱ अन्य प्रवेश परीक्षाओं जैसे जेईईए सीमैट, जीपैट आदि का आयोजन साल में दो बार होगा। हर साल असिस्टेंट प्रोफेसर और जूनियर रिसर्च के खाली पदों को भरने के लिए परीक्षा का आयोजन किया जाता है।

 

एनटीए तीन पेपर की जगह दो पेपर का आयोजन करेगा..

पेपर 1: यह 100 अंकों का होगा। इसमें 50 आब्जेक्टिव टाइप कंपल्सरी क्वेस्चन होंगे। प्रत्येक सवाल 2-2 नंबर के होंगे और इससे कैंडिडेट की शैक्षणिक योग्यता एवं क्षमता का मूल्यांकन होगा। यह पेपर एक घंटे का होगा। दिन के 9.30 बजे से 10.30 बजे तक होगा। पेपर 2 भी 100 अंकों का होगा और इसमें 100 ऑब्जेक्टिव टाइप कंपल्सरी क्वेश्चन होंगे। प्रत्येक सवाल 2.2 नंबर के होंगे और अभ्यर्थी द्वारा चुने गए विषय के आधार पर होंगे। इसकी अवधि दो घंटे की होगी, जो 11 से 1 बजे तक होगा।

 

READ MORE : video : उदयपुर में यहां से पकड़ा गया 20 लाख का डोडा-चूरा...नाकाबंदी तोड़़ तस्कर लग्जरी कार भगा ले गए..

 

यूजीसी नेट का आवेदन शुल्क
सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थी को 1000 रुपये, आरक्षित ;ओबीसी, श्रेणी के कैंडिडेट्स को 500 रुपये और एससी-एसटी-पीडब्ल्यूडी-ट्रांसजेडर कैंडिडेट्स को 250 रुपये आवेदन शुल्क जमा करना होगा।

यूजीसी नेट 2018 का एलिजिबिलिटी क्षेत्र

अभ्यर्थी को कम से कम 55 फीसदी अंकों के साथ मास्टर की डिग्री पास होना जरूरी है या किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी, संस्थान से समकक्ष परीक्षा पास की हो। आरक्षित श्रेणी को 5 फीसदी छूट मिलेगी यानी उनके लिए 50 फीसदी अंकों के साथ मास्टर डिग्री पास होना जरूरी है।

जो अभ्यर्थी मास्टर के फाइनल इयर में हैं, वे भी आवेदन कर सकते हैं। उनको नेट रिजल्ट आने की तारीख से दो सालों के अंदर वांछित प्रतिशत के साथ मास्टर डिग्री या समकक्ष परीक्षा पास करना होगा। जूनियर रिसर्च फेलोशिप-जेआरएफ में बैठने के लिए अधिकतम आयु सीमा 28 साल से बढ़ाकर 30 साल कर दी है। असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए कोई ऊपरी आयु सीमा नहीं है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned