आमतौर पर गर्मी अप्रैल के अंतिम दिनों से शुरू होती है लेकिन इस साल मार्च से ही ये सितम ढा रही है। अप्रैल को छोड़िए मार्च में ही मई वाली गर्मी का सामना करना पड़ रहा है। नतीजा है पिछले साल हुई कम बारिश से जलाशयों का जलस्तर घटने लगा है। मार्च के अंत तक तो पारा भी 40 डिग्री तक पहुंच गया। अब जैसे जैसे गर्मी बढ़ रही है वैसे वैसे नदी, नालों, तालाबों का जलस्तर घटने लगा है। कई गावों में अभी मार्च महीने में ही बुरा हाल है। मई और जून में स्थिति भयावह हो सकती है। क्षेत्र में धण्ड तालाब 90 प्रतिशत तक सुख चुका है जिससे निचले इलाकों के कुओं का जलस्तर तेजी से घट रहा है

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned