गंभीर बीमारी से संघर्ष कर रहे युवाओं को दिया नया जीवनदान

अफसरों ने दिखाई दरियादिली

By: surendra rao

Published: 10 Feb 2021, 07:49 PM IST

कोटड़ा. (उदयपुर). आदिवासी क्षेत्र में नौकरी करने गए कोटड़ा के दो सरकारी अधिकारियों ने मानवता की मिसाल पेश की है। इन दोनों अधिकारियों ने क्षेत्र में अब तक कई सरकारी योजनाओं और सुविधाओं को धरातल पर जन जन तक पहुंचाया और लोगों को लाभान्वित किया है। दोनो अधिकारी कोटड़ा विकास अधिकारी धनपत सिंह राव एवं उदयपुर के कृषि विभाग अधिकारी देवेंद्र प्रताप सिंह ने अपनी नौकरी के अलावा गरीब एवं असहाय लोग जो गंभीर बीमारी से जीवन मृत्यु के बीच संघर्ष कर रहे लोगों की मदद की। इन्होंने उदयपुर के निजी हॉस्पिटल का समस्त खर्च खुद एवं अपने सहयोगियों से डोनेट करवाकर वहन किया और युवाओं को इलाज करवाकर नया जीवनदान दिया है।
केस 1
सावन क्यारा निवासी बका पुत्र होमा पारगी को काफी लंबे समय से हार्ट में इंफेक्शन था। वे पैसों के अभाव में इलाज नही करवा पा रहे था। बका के परिवार के पास भामाशाह कार्ड नही होने से परिजन नि:शुल्क इलाज का लाभ भी नही ले पा रहे थे। कोटड़ा विकास अधिकारी धनपत सिंह राव को पता चली तो उन्होंने दूसरे दिन ही बका को निजी हॉस्पिटल ले जाकर भर्ती कराया और डॉक्टरों को इलाज जारी रखने की बात कही। इस पर सफल ऑपरेशन हुआ।
-----------
केस 2
कृषि अधिकारी डॉक्टर देवेन्द्र प्रताप सिंह ने भी इसी तरह मदद की है। कोटड़ा के एक गांव गऊपीपला के किसान भेरूलाल पुत्र रेवा पारगी जो की मिर्गी की बीमारी से पिछले कई सालों से परेशान था। लेकिन इलाज की जानकारी के अभाव वह पैसों की तंगी के चलते कृषक अपना इलाज कराने में समर्थ नहीं था। भेरूलाल ने मदद की आश में कृषि अधिकारी को फोन पर बीमारी की समस्त जानकारी डॉक्टर सिंह को बताई और अपने कृषक की पीड़ा सुनने के बाद डॉक्टर देवेन्द्र प्रतापसिंह ने तुरंत उन्हें उदयपुर बुलाया। यहां निजी अस्पताल में उसका उपचार कराया।

Show More
surendra rao Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned