खाली सिलेंडर्स के भरोसे मरीजों की 'सांसे, घनघना रहे फोन 'एक कोने में जगह दे दीजिए साहब

.. हांफने लगी शहर-जिले की ऑक्सीजन उपचार की व्यवस्थाएं

By: bhuvanesh pandya

Published: 18 Apr 2021, 11:39 AM IST

र्कोरोना जैसे ही घातक रूप में आने लगा है, वैसे-वैसे सरकारी से लेकर निजी हॉस्पिटलों के आक्सीजन व वेंटीलेटर्स वाले पलंग पूरी तरह से भर चुके हैं। मरीज और उनके परिजन भर्ती होने के लिए उच्चाधिकारियों से लेकर अपने राजनीतिक संपर्कों का सहारा ले रहे हैं ताकि जैसे-तैसे उन्हें हॉस्पिटल में जगह मिल जाए। हालात ये है कि शहर के सभी चिकित्सालय ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं। उनके पास जितनी ऑक्सीजन की जरूरत है, उतनी उपलब्ध नहीं है। ऐसे में अधिकांश चिकित्सालयों में सामान्य पलंग तो उपलब्ध हैं, लेकिन ऑक्सीजन वाले नहीं।

-----

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. उदयपुर में किसी भी हॉस्पिटल में अभी ऑक्सीजन पलंग उपलब्ध नहीं है, चाहे वह सरकारी हो या निजी। एमबी हॉस्पिटल जैसे-तैसे ऑक्सीजन व्यवस्थाओं में लगा है तो निजी हॉस्पिटल मरीजों को ऑक्सीजन पलंग नहीं होने का हवाला देकर लौटाने में लगे हैं। बेड़वास स्थित एम्स हॉस्पटल के अधिग्रहण के बाद वहां ्रफिलहाल 88 ऑक्सीजन पलंग खाली बताए जा रहे हैं, जबकि कुल केवल 177 पलंग खाली बताए जा रहे हैं, लेकिन हर चिकित्सालय मांगने पर 'नाÓ में सिर हिला रहा है। आईसीयू नोन वेंटीलेटर के सभी मिलाकर केवल दस और 11 पलंग आइसीयू वेंटीलेटर के उपलब्ध हैं। शहर में 17 चिकित्सालयों मे से 8 में एक भी ऑक्सीजन बिस्तर खाली नहीं, केवल अधिग्रहित एम्स बेड़वास को छोड़ दें तो सभी में इक्के-दुक्के पलंग खाली हैं।

-----
ऐसे हो रहे हैं प्रयास

- अमेरिकन हॉस्पिटल में बनेगा कोविड केयर सेंटर, जिला प्रशासन ने किया अधिग्रहण
उदयपुर में जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने बेड़वास स्थित निजी हॉस्पिटल अमेरिकन इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के अधिग्रहण के आदेश जारी किए हैं। कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन ने कोविड रोगियों के उपचार के लिए इस अस्पताल का अधिग्रहण किया है। देवड़ा ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार व आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत अमेरिकन हॉस्पिटल के सामान्य बेड वाले वार्ड का सभी चिकित्साकर्मियों व मेडिकल संसाधनों सहित अधिग्रहण किया गया है। अब यहां कोविड संक्रमितों का उपचार किया जाएगा।

-------
सरकारी तैयारियां

- चिकित्सा शासन सचिव सिद्धार्थ महाजन ने विभिन्न जिलों की ऑक्सीजन व्यवस्थाओं को लेकर समीक्षा की, इसमे सामने आया कि कुछ जिलों में ऑक्सीजन उपलब्ध है, जबकि कुछ जिलों में नहीं। उन्होंने निर्देश जारी कर प्रदेश स्तरीय ऑक्सीजन प्लान्ट की सूची तैयार करवाई। इसमें निर्देश दिए कि जिले एक दूसरे को ऑक्सीजन की मांग पूरी करने में सहयोग करें। जरूरत पर सिलेंडर्स किराए पर लिए जाए, ऑक्सीजन प्लान्ट कहीं खराब है तो उसे मालिक से संपर्क कर शुरू करवाया जाए। ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए चार सदस्यीय स्टेट टीम बनाई गई है, इसमें आईएएस रोहित गुप्ता, ललित मोरोडिया, डॉ. एएन माथुर व डॉ. प्रेमसिंह को शामिल किया गया है।
- सरकार ने जिलों से कहा है कि वे अपने स्तर पर भी मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर, ऑक्सीजन कान्सनट्रेटर की खरीद कर सकते हैं। इसके लिए गुप्ता इंडस्ट्रीयल गैसेज प्राइवेट लिमि. हिसार की दरें बताई है। इसमें ऑक्सीजन सिलेंडर बी टाइप की 5300 व 18 प्रतिशत जीएसटी, मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर डी टाइप की 10390 व 18 प्रतिशत जीएसटी बताई गई है।

- ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए सरकार ने एलएमओ प्रोडक्शन प्लान्ट की सूची व सिलेंडर्स उत्पादन क्षमता की सूची जारी की है। इसमें ऑक्सीजन प्रोडक्शन बाय एयर सेपरेशन प्रोसिजर के 24 प्लांट व ऑक्सीजन प्रोडक्शन थ्रू लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के 14 प्लान्ट के नाम व क्षमता बताई है। इसमें उदयपुर के आदर्श गैस की प्रतिदिन 900 सिलेंडर्स व अर्नेस्ट गैस प्रालि के 1000 प्रतिदिन सिलेंडर्स की क्षमता बताई गई है।
-------

उदयपुर में ऐसे भर्ती है मरीज
उदयपुर में कुल 1345 मरीज भर्ती हैं, इसमें से ...

- सामान्य पलंग- 198
- ऑक्सीजन सपोर्ट पलंग- 805

- आईसीयू नोन वेंटीलेटर्स- 145
- आईसीयू वेंटीलेटर्स- 197

-------
खाली पलंग

- सामान्य पलंग- 759
- ऑक्सीजन सपोर्ट पलंग- 175

- आईसीयू नोन वेंटीलेटर्स- 10

- आईसीयू वेंटीलेटर्स- 11
- कुल 955

- 58.45
-----------

हॉस्पिटल- आईसीयू पलंग पर भर्ती- उपलब्ध ओटू पलंग
इएसआईसी-138-1

एमबी- 88-4
सेटेलाइट सेक्टर छह- 78-2

एमबी संदिग्ध- 73-35
जीएमसीएच- 39-1

पीएमसीएच- 58-2
पिम्स- 70-20

एम्स बेड़वास- 27-88
पारस- 30-0

जीबीएच- 49-1
शर्मा मल्टी- 26-15

चौधरी हॉस्पिटल- 17-2
सनराइज- 13-0

अरावली- 05-0
कल्पना नर्सिंग- 28-1

सिद्धी विनायक- 09 -0
एसआरजी- 10-0

कनक -30 -0
सरस्वती- 5- 0

कर्नावटी- 5- 0

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned