video : पदमावती पर जारी है घमासान, राजपूत नेताओं ने कहा.. ऐसा कौनसा सांप सूंघ गया है जो सभी नपुंसक होकर बैठे हैं..

video : पदमावती पर जारी है घमासान,  राजपूत नेताओं ने कहा.. ऐसा कौनसा सांप सूंघ गया है जो सभी नपुंसक होकर बैठे हैं..

krishna tanwar | Publish: Nov, 15 2017 05:26:01 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

मेवाड़ क्षत्रिय महासभा के संरक्षक मनोहर सिंह कृष्णावत ने फिल्म पद्मावती पर रखी अपनी बात

 

उदयपुर . आखिर सभी नेताओं को ऐसा कौनसा सांप सूंघ गया है जो सभी नपुंसक होकर बैठे हैं। अगर हमारे गृहमंत्री का शरीर मेवाड़ की मिट्टी का बना है, अगर उनमें जरा भी जागृति शेष है तो वे इस पर उचित कार्यवाही करें। फिल्म पद्मावती पर अपनी बात रखते हुए मेवाड़ क्षत्रिय महासभा के संरक्षक मनोहर सिंह कृष्णावत ने कहा कि 300 साल पहले रानी पद्मावती ने जौहर की जिस आग में कूद कर देश के मान सम्मान की रक्षा की थी उसकी चिंगारी आज तक सुलग रही है।

उन्होंने कहा कि इतिहास को यूं तोड़मरोड़ कर पेश करके अगर संजय लीला भंसाली को लगता है कि वो पैसा कमा लेंगे तो वे गलत हैं। हमारी संस्कृति पर कोई हमला करेगा तो उसे हम छोड़ेंगे नहीं। अगर अभी अटल बिहारी वाजपेयी स्वस्थ होते तो वे यकीनन इस महासंग्राम में साथ देते। युवाओं का आह्वान करते हुए कृष्णावत बोले कि वे युवाओं का साहस और एकजुटता देखकर हैरान हैं यदि वे इसी तरह अपनी संस्कृति को बचाने में जुटे रहे तो देश सुरक्षित हाथों में है।

 

 

READ MORE : pics: Padmavati Controversy : एक्टर नील नितिन ने कहा, आलोचक हर फिल्म में तलाश लेते हैं कंट्रोवर्सी

 

 

देवी स्वरूपा है रानी पद्मिनी
मेवाड़ क्षत्रिय महासभा के संरक्षक मनोहरसिंह कृष्णावत ने कहा कि रानी पद्मिनी का त्याग और बालिदान आज भी देश और समाज को प्रेरणा प्रदान कर रहा है जिससे उन्हें देवी के रूप में पूजा जाता है। फिल्म के ट्रेलर में रानी पद्मिनी को नाचते हुए दिखाया जा रहे है जो निंदनीय है। किसी भी हालत में भंसाली की फिल्म को रिलीज नहीं होने दी जाएगी। यह अब मेवाड़ ही नहीं, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय बन गया है। क्षत्रिय महासभा के अध्यक्ष अध्यक्ष बालूसिंह कानावत, डॉ. राजेंद्रसिंह जगत, तनवीर सिंह कृष्णावत, दिलीप सिंह बांसी, कुंदन सिंह ने फिल्म को लेकर आक्रोश प्रकट किया।


इतिहास से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं
महाराणा प्रताप राजतिलक सेवा समिति गोगुंदा के अध्यक्ष अभिमन्यु सिंह झाला ने कहा कि रानी पद्मिनी समस्त नारियों की अस्मिता की प्रतीक है। इतिहास के साथ छेड़छाड़ किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यदि फिल्म में इतिहास के साथ छेड़छाड़ की है तो इसे हटा लिया जाए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned