VIDEO : कांग्रेस अध्यक्ष बोले गधा-मजदूरी हम करते, ठप्पा पीसीसी लगा देती

Mukesh Hingar

Publish: Mar, 20 2019 04:04:33 PM (IST) | Updated: Mar, 20 2019 05:14:33 PM (IST)

Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. कांग्रेस की जाजम हम उठा रहे है। पार्टी के धरने-प्रदर्शन के लिए भीड़ हम जुटा रहे है। सीधी सी बात है कि गधा-मजदूरी हम करते है और वक्त आता है तब हमे बिना पूछे ही कार्यकारिणी विस्तार की सूची पर ठप्पा पीसीसी लगा देती है। इस पर संगठन को विचार करना चाहिए नहीं तो सबका मनोबल टूट जाएगा। यह तीखे तेवर दिखाए उदयपुर देहात कांग्रेस अध्यक्ष लालसिंह झाला ने। मंगलवार को उदयपुर में देहात कांग्रेस कमेटी की बैठक एवं होली मिलन समारोह के दौरान झाला ने प्रदेश महासचिव व उदयपुर के सह प्रभारी शंकर यादव के समक्ष अपना दर्द बताया। झाला ने कहा कि जब सरकार नहीं थी तब हमने पांच साल संघर्ष किया, विपक्ष के रूप में हमने मजबूत भूमिका निभाई और अब हमारे बिना पूछे ही संगठन जयपुर से सीधे हमारी कार्यकारिणी में नियुक्तियां कर रहा है, अध्यक्ष की भी कोई भूमिका होती है, मेरा विरोध नई नियुक्तियों पर नहीं है लेकिन सवाल उठता है कि एक तो अध्यक्ष से भी पूछा जाता और दूसरा ऐसे लोगों को शामिल किया जिन्होंने विधानसभा चुनाव में पार्टी विरोधी कार्य किया। झाला ने कहा कि हम अपने बूथ के नेता बने और अपने बूथ से कांग्रेस को जिताएं तो हमें कोई भी ताकत हरा नहीं पाएगी। सह प्रभारी शंकर यादव ने कहा कि आज देश में जो शक्तियां राज कर रही है उससे देश के संविधान को खतरा है। देश की एकता और अखंडता को खतरा है। उन्होंने कहा कि लोकसभा का उम्मीदवार कौन होगा यह हमारा विषय नहीं वह हमारे पार्टी के वरिष्ठ नेता तय करेंगे। हमारी जिम्मेदारी है की पार्टी के उम्मीदवार को जिताएं। सीडब्ल्यूसी सदस्य रघुवीरसिंह मीणा ने कहा कि आपसी मतभेद भुलाकर कांग्रेस के लिए लोकसभा चुनाव में दिन-रात काम करना है। बैठक में प्रदेश महासचिव जगदीश राज श्रीमाली, प्रदेश सचिव पंकज शर्मा, नीलिमा सुखाडिय़ा, पूर्व मंत्री डॉ मांगीलाल गरासिया, पूर्व जिला प्रमुख मधु मेहता, पूर्व विधायक हीरालाल दरांगी, सज्जन कटारा, कांग्रेस नेता सुनील भजात, श्याम लाल चौधरी आदि ने विचार रखे।

अगर ऐसा हुआ तो लोकसभा चुनाव में उदयपुर में आमने-सामने होंगे प्रियंका गांधी और नरेन्द्र मोदी !

बैठक रखी शहर से बाहर
बैठक का स्थान भी चर्चा का विषय बना। पहली बार बैठक शहर से बाहर अम्बेरी-देबारी हाइवे पर रखी गई। वैसे बैठक में चर्चा भी यह थी कि देहात अध्यक्ष पीसीसी के स्तर पर विस्तार की गई जिस कार्यकारिणी का विरोध कर रहे थे उसी में महासचिव बने दिलीप जारोली के कॉलेज में यह आयोजन क्यों किया गया?

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned