19 हजार पेंशनर्स ने अब तक नहीं बताया वे जीवित हैं, केवल 16 हजार बोले- हम जिंदा हैंं

लाइफ सर्टिफिकेट देने में कम दिखा रुझान, पेंंशन के लिए होता है जरूरी

चंदनसिंह देवड़ा/उदयपुर. सरकार के निर्देशों के तहत वर्ष के अंत में पेंशनर्स को जीवित होने का प्रमाण पत्र देना होता है, लेकिन उदयपुर संभाग में नवम्बर बीतने के बाद भी आधे पेंशनर्स ने अब तक नहीं बताया कि वे जिंदा है। ईपीएफओ विभाग के अनुसार नवम्बर में ही सभी पेंशनर्स को लाइफ सर्टिफिकेट बैंक या ईपीएफओ कार्यालय में जमा करवाना होता हैा। साथ ही ई-मित्र से भी यह प्रमाण पत्र ऑनलाइन सबमिट करने का विकल्प दे रखा है फिर भी पेंशनर्स ने इसमें रुचि नहीं दिखाई। बैंकों में सीएससी की ओर से कैम्प भी लगाए गए, लेकिन पेंशनर्स ने जीवित होने का प्रमाण पत्र देने की जहमत नहीं उठाई।

केवल 16 हजार बोले- हम जिंदा हैंं
संभाग के उदयपुर, राजसमंद, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़, चित्तौडगढ़़ और भीलवाड़ा जिले में भविष्य निधि कार्यालय के अनुसार 35 हजार पेंशनर्स है। इनमें से 3 दिसम्बर तक 16 हजार पेंनशनर्स ने ही जीवित प्रमाण पत्र सबमिट करवाया है, जबकि अब भी आधे पेंशनर्स की जानकारी बाकी है।

ऑनलाइन भी दे रखा ऑप्शन
मैन्यूअल के साथ ही ऑनलाइन जीवन प्रमाण नामक साइट पर ईपीएफओ ऑप्शन में डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट सबमिट किया जा सकता है। इसके अलावा बैंक, कॉमस सर्विस सेंटर, ई-मित्र या नजदीकी ईपीएफओ कार्यालय में जाकर इसे जमा करवा सकते हैं। इसके लिए पीपीओ, आधार, बैंक खाता और मोबाइल नम्बर बताना होगा।

तो रुक जाएगी पेंशन
पेंशन प्राप्त करने वालों को नवम्बर से दिसम्बर तक जीवित होने का प्रमाण पत्र जमा नहीं करवाने पर अगले माह से उनकी पेंशन रोकने का प्रावधान है। ऐसे में जब तक यह प्रमाण सबमिट नहीं होगा तब तक पेंशन जारी नहीं हो पाएगी। ऐसे में असुविधा से बचने के लिए दिसम्बर तक मौका है कि समय पर सभी लाइफ सर्टिफिकेट सबमिट करवाएं।

इनका कहना है
सीएससी से अनुबंध के चलते कैम्प लगाए गए लेकिन फिर भी अभी आधे पेंशनर्स के ही जीवित प्रमाण पत्र सबमिट हुए है। दिसम्बर का माह महत्वपूर्ण है। इसके बाद 15 जनवरी तक का समय देंगे। कई प्रकरण ऐसे भी है जिनका सर्टिफिकेट नहीं आने से पेंशन जारी नहीं हो पाई और एरियर अटका हुआ है।

धनवंतसिंह, आयुक्त, क्षेत्रीय भविष्य निधि कार्यालय, उदयपुर

madhulika singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned