डिविडिंग मशीन से निकाली जलीय खरपतवार वापस समा रही पानी में

स्वरूपसागर-रंग सागर तालाब पेटे में ही पटक दी खरपतवार को

By: Mukesh Hingar

Published: 13 Sep 2021, 10:58 PM IST

उदयपुर. लापरवाही का आलम देखिए झील के अंदर से जलीय खरपतवार डिविडिंग मशीन से निकाली गई। समय और धन दोनों गया, लेकिन वहां से निकाली घास को झील किनारे पेटे में ही एकत्रित कर भूल गए। वहां से उसे नहीं हटाया तो अब खरपतवार वहां से सीधे वापस उसी पानी में समाहित हो रही है।

असल में पिछोला झील के हिस्से स्वरूपसागर, रंग सागर तालाब से डिविडिंग मशीन के जरिए जलीय खरपतवार निकाली गई, जिसे पेटे में ही छोड़ दिया। इन दिनों बारिश होने से पानी का जलस्तर बढऩे लगा तो जलीय खरपतवार तालाब के पानी में समाहित हो रही है और बड़ी मात्रा में पानी में तेर रही है। यही नहीं, जलीय खरपतवार सड़-गल कर दुर्गंध मार रही है और पानी को प्रदूषित अलग कर रही है।

झील सुरक्षा व विकास समिति सदस्य तेज शंकर पालीवाल बताते हैं कि जलीय खरपतवार से कई तरह के बैक्टीरिया पैदा होते हैं जो पीने के पानी की शुद्धता को बर्बाद कर रहे हैं। वे कहते हैं कि उन्होंने अधिकारियों को फोन पर समय रहते खरपतवार को हटाने के लिए कहा भी लेकिन ध्यान नहीं दिया और वापस में पानी में समाहित हो रही है।

Mukesh Hingar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned