कोरोना प्रभाविताेें के ल‍िए द‍िल खोलकर दान करें लेक‍िन इन बातों का रखें खास ध्‍यान

पीएम रिलीफ फंड के बन चुके हैं फेक आईडी, कोई फ्रॉड ना कर दे बैंक खाता खाली

By: madhulika singh

Published: 30 Mar 2020, 04:09 PM IST

उदयपुर. अगर आप भी कोरोना पीडि़तों के खातिर और लॉकडाउन में फंस लोगों के लिए ऑनलाइन मदद करना चाहते हैं और इसके लिए इंटरनेट पर लिंक्स खंगाल रहे हैं तो थोड़ा सावधान होने की जरूरत है। दरअसल, कोरोना वायरस से जुड़ी कुछ वेबसाइट्स ऐसी हैं, जो आपको जानकारी तो नहीं देती लेकिन आपका बैंक अकाउंट जरूर खाली कर सकती हैं। दरअसल, कोरोना जिस तेजी से पूरी दुनिया में पैर पसार रहा है, उसी तरह उसको जानने के प्रति भी लोगों की उत्सुकता बढ़ी है। दुनियाभर के लोग इस जानलेवा वायरस के बारे में जानने के लिए इंटरनेट पर सर्च कर रहे हैं और कोरोना पीडि़तों के लिए बनाए गए राहत कोष में दान भी करना चाहते हैं, लेकिन सच्चाई ये है कि इस वायरस के नाम से इंटरनेट पर भी लोग शिकार बन रहे हैं।

पीएम रिलीफ फंड्स की भी बना ली फेक आईडी

कोविड 19 प्रधानमंत्री राहत कोष में दान देने के लिए देशभर से लोग आगे आने लगे हैं। ऐसे में इसका फायदा उठाने के लिए साइबर क्रिमिनल्स ने प्रधानमंत्री के नाम से वेबसाइट्स और फेक अकाउंट्स बना लिए हैं। ऐसे में जरूरी है कि दान करते समय पूरी सावधानी बरती जाए, नहीं तो ये राशि फ्राॅॅड्स के खाते में चली जाएगी। साइबर एक्सपर्ट श्याम चंदेल बताते हैं कि कोरोना और कोविड 19 के नाम से तीन हजार से अधिक फर्जी वेबसाइट्स बन चुकी हैं और कुछ वेबसाइट्स कोरोना के लिए हैल्पलाइन नंबर्स और डोनेशन के लिए भी जानकारी दे रही हैं, जो पूरी तरह गलत हैं। वही कुछ फ्रॉड्स ने मिलती जुलती फेक यूपीआई आईडी बना ली है। दान करते समय दो बार चेक करेंं कही बेनिफिशियरी भीम यूपीआई आईडी और रजिस्टर्ड नेम की स्पेलिंग गलत तो नहीं है । फिर दान करेंं । सावधान रहे, किसी गलत व्यक्ति के खाते में चली न जाए ।

गूगल पर बढ़ा कोरोना का सर्च ट्रेंड

इन दिनों कोरोना वायरस और कोविड 19 को लेकर गूगल पर सर्च ट्रेंड काफी बढ़ गया है। इस ट्रेंड ने अब और भी मजबूती पा ली है। कोरोना के बारे में संदेहास्पद वेब डोमेन की जानकारी पहली बार मार्च के पहले सप्ताह में देखी गई। इसके बाद से यह बढकऱ तीन हजार से अधिक हो गया है। अब ये तीन हजार तक पहुंच चुका है। इनमें 100 से अधिक ऐसी वेबसाइट को आईटी मंत्रालय (सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग) ने ट्रेस भी कर लिया है, जो गलत नीयत से बनाई गईं हैं। मंत्रालय ने ऐसी वेबसाइट को हिट न करने की सलाह दी है। ठग वेबसाइटों के जरिये लोगों की गोपनीय जानकारी चुरा रहे हैं। संदेहास्पद या पैनिक फैलाने वाली साइट न खोलने की सलाह भी दी गई है। इसे खोलने पर यूजर का डाटा खतरे में पड़ सकता है। ऐसी साइट के लगातार विलिंक करने पर इसकी शिकायत सर्विलांस सेल से जरूर करें।

ऐसे करें सुरक्षित दान
नागरिक और संगठन वेबसाइट pm india.gov.in पर जा सकते हैं और पीएम केयर्स फंड में दान कर सकते हैं।

भुगतान के निम्नलिखित माध्यम वेबसाइट पर उपलब्ध हैं-
डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड

इंटरनेट बैंकिंग
यूपीआई (भीम, फोनपे, अमेजन पे, गूगल पे, पेटीएम, मोबिक्विक)

RTGS/NEFT
इस कोष में दी जाने वाली दान राशि पर धारा 80 (जी) के तहत आयकर से छूट दी जाएगी

fake.jpg
Corona virus
madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned