पहाडि़यों पर चढऩे वालों का दौड़ में निकला दम....पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा

पहाडि़यों पर चढऩे वालों का दौड़ में निकला दम....पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा

Krishna Kumar Tanwar | Publish: Sep, 07 2018 06:13:15 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

मो.इलियास/उदयपुर . पहाडि़यों पर बने झोपड़ों पर पलभर में ही चढऩे वाले आदिवासी अभ्यर्थियों का यहां कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में महज पांच किलोमीटर दौड़ में ही दम फूल गया। सीना तो फूलने के बावजूद तय मापदंड को छू नहीं पाया। दौड़ व नाप में सरकारी छूट के बावजूद अधिकतर अभ्यर्थी विफल हो गए। कइयों को स्टे्रचर पर उठाकर ले जाना पड़ा, कुछ दौड़ते समय एेसे गिरे कि उन्हें संभालना पड़ा।उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा व प्रतापगढ़ के जनजाति क्षेत्र की पुलिस कांस्टेबल भर्ती के लिए सैकड़ों अभ्यर्थियों में फॉर्म भरा। लिखित पेपर में गे्रजुएशन व उसके ऊपर की डिग्री वाले अभ्यर्थियों का चयन हुआ। जब उन्हें शारीरिक परीक्षा के लिए बुलाया गया तो इनमें भी अधिकतर फेल हो गए। जानकारों का कहना है कि पढ़े-लिखे आदिवासी बहुल क्षेत्र के इन अभ्यर्थियों ने लिखित परीक्षा में मेहनत की लेकिन शारीरिक परीक्षा में कोई दमखम नहीं दिखाया।

 

इससे कम तो क्या करेगी सरकार
सरकार ने शारीरिक परीक्षा के तहत इन अभ्यर्थियों को सामान्य अभ्यथियों की भांति दौड़ में अतिरिक्त समय दिया। २७ मिनट में पांच किलोमीटर दौड़ में अधिकतर एक या दो चक्कर के बाद ही पैदल चलते दिखे। कुछ निर्धारित समय में काफी पीछे रह गए। कुछ दौड़ पूरी करने से पहले ही ग्राउंड पर गिर पड़े। उन्हें स्टे्रचर पर उठा बाहर लाकर उपचार करवाना पड़ा। कुछ तो दौड़ पूरी कर बाहर आए तो उन्हें सामान्य होने में भी काफी समय लग गया। इस दौड़ में अधिकतर एेसे अभ्यर्थी हैं जो प्रतिदिन पहाड़ों पर चढ़कर अपने आशियाने तक पहुंचते हैं।

 

 

READ MORE : मिलिए, उदयपुर के इन हुनरबाजों से...अपने हुनर व जुनून से पा रहे मुकाम..

 

 

मापदंड में छूट गई बेकार

टीएसपी के इन अभ्यार्थियों के चयन के लिए सरकार ने लम्बाई व सीने में भी करीब ५ सेमी.की छूट दी लेकिन अधिकतर अभ्यर्थी एेसे थे जिनका सीना फूलाने पर भी तय मापदंड को नहीं छू पाया। कुछ अभ्यर्थी लम्बाई का मापदंड पूरा नहीं करने से बाहर हो गए।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned