राज्य सरकार के इस आदेश की अवहेलना के कारण यहां के प्रधान ने की मुख्यमंत्री से शिकायत, क्या है माजरा.. जानें

प्रधान ने कहा- सरकारी आदेश की हुई अवेहलना

By: madhulika singh

Published: 16 May 2018, 07:31 PM IST

सलूम्बर. राज्य सरकार के आदेश अनुसार सेमारी बीडीओ का स्थानांतरण तो हो गया, लेकिन विभाग के जिला अधिकारी ने कार्यमुक्त होते ही कुछ घंटों में सेमारी का अतिरिक्त कार्यभार सौंप दिया। प्रधान ने इस आदेश को राज्य सरकार की आदेश की अवेहलना बताते हुए पुन: मुख्यमंत्री को शिकायत भेजी है।
पंचायती राज विभाग के संयुक्त शासन सचिव इकबाल खान के 4 मई को जारी आदेश अनुसार सेमारी बीडीओ का स्थान्तरण सराड़ा किया गया। बीडीओ विशाल सीपा ने सोमवार को कार्यमुक्त होकर कार्यभार पंचायत प्रसार अधिकारी रिपुसूदन सिंह को सौंपकर सराड़ा बीडीओ का कार्यभार संभाल लिया। लेकिन जिला परिषद के अतिरिक्त कार्यकारी अधिकारी मुकेश कुमार कलाल ने सोमवार को ही आदेश जारी कर सराड़ा बीडीओ को सेमारी बीडीओ का अतरिक्त कार्यभार देने के निर्देश दिए। आदेश की पालना करते हुए सीपा ने सेमारी का कार्यभार संभाल लिया।
प्रधान का विरोध
सेमारी प्रधान सोनल मीणा ने बताया कि बीडीओ सीपा दो वर्ष से सेमारी में हैं। इनके कार्य को लेकर सरपंच, जनप्रतिनिधियों में आए दिन नाराजगी रहती थी। जिसके कारण पंचायतीराज मंत्री धनसिंह रावत, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सामने शिकायत दर्ज की गई। पंचायतीराज विभाग ने स्थान्तरण भी कर दिया, लेकिन विभाग ने सीपा को सेमारी से कार्यमुक्त होते ही पुन: अतरिक्त चार्ज दिया, जो राजकीय आदेश की अवेहलना है।

 

READ MORE : उदयपुर की इस पंचायत की शासन सचिव को हुई शिकायत, सचिव ने ज‍िला कलक्‍टर को द‍िए ये न‍िर्देश..

 

पहले काम कर चुके हैं। अनुभव रखते हैं और हमें सुविधाजनक लगता है तो चार्ज दिया जा सकता है, नियमानुसार सही है।
मुकेश कलाल, एसीईओ, जिला परिषद
गोगुन्दा में बीडीओ का पंचायत प्रसार अधिकारी के पास कार्यभार है तो सेमारी के अनुभवी पंचायत प्रसार अधिकारी को चार्ज देकर कुछ घंटों में वापस ले लिया गया, जो सरकार आदेश की अवेहलना है। मुख्यमंत्री को इस घटनाक्रम से अवगत कराउंगी।
सोनल मीणा, प्रधान, सेमारी

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned