VIDEO : राजस्थान में यहां सबने चढ़ी सीढिय़ां, बस जरूरत थी इसकी

Mukesh Hingar

Publish: Jan, 12 2019 11:24:02 AM (IST) | Updated: Jan, 12 2019 11:24:03 AM (IST)

Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

मुकेश हिंगड़ / उदयपुर. मनरेगा के काम मांगो विशेष अभियान ने पूर्व सरकार एवं उसके सुर में सुर मिलाते प्रशासन की पोल खोल कर रख दी है। अभियान के शुरू होते ही जरूरतमंद लोग पंचायत भवन में पहुंचे और काम के लिए अपना नाम जुड़वाने की अर्जी देते दिखे रहे हैं। दूसरी ओर अब तक यही प्रशासन व पंचायतें यह तर्क दे रही थी कि मनरेगा में काम तो बहुत है लेकिन मांगने वाला कोई नहीं है। वित्तीय वर्ष 2017-2018 के आंकड़ों को देखें तो यह सामने आता है कि जिले में मात्र चौदह हजार लोगों को ही 100 दिन का काम दिया गया था। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग की ओर से महात्मा गांधी नरेगा योजना के तहत रोजगार की मांग, जॉब कार्डों का सत्यापन एवं कार्ड जारी करने को लेकर ‘काम मांगो विशेष अभियान’ के तहत शिविर लगाए जा रहे हैं। प्रदेश में 20 जनवरी तक अलग-अलग पंचायतों में दो-दो दिन के शिविर लगेंगे। पत्रिका टीम ने शुक्रवार को गिर्वा पंचायत समिति के सीसारमा गांव के अटल सेवा केन्द्र पर लगे शिविर को देखा तो वहां बड़ी संख्या में लोग काम मांगने के लिए आए हुए थे। इसमें महिलाओं की संख्या ज्यादा थी। बातचीत में उन्होंने बताया कि वे काम तो कभी से मांग रहे थे लेकिन काम मिल कहां रहा था? शिविर में उन्होंने आवेदन का प्रपत्र 6 भरा। हाथोंहाथ हस्ताक्षर करवा कर उनको रसीद भी दे दी गई। अर्जी के साथ आधार कार्ड, पासपोर्ट साइज फोटो व एक पोस्टकार्ड साइज फोटो दिए थे।

15 दिन में काम की जिम्मेदारी प्रशासन की
शिविर में जिन्होंने प्रपत्र 6 भरा, उनको काम देने की जिम्मेदारी अब प्रशासन की है। सीसारमा में जिन्होंने काम मांगा है, उनको कालका माता नर्सरी में तथा झाडिय़ां हटाने के काम में काम दिया जाएगा। शिविर में सुबह 9 बजे से ही लोगों का आना शुरू हो गया था। करीब 11 बजे पूरा हॉल भर गया था। नरेगा में एक को अधिकतम 100 दिन का और कथौड़ी जाति से जुड़े लोगों को 200 दिन का काम दिया जाता है।

आंकड़े एक नजर में
480585 को दिया जिले में जॉब कार्ड
228315 काम मांगने आए
191351 को मिला काम
14168 ने किया 100 दिन का काम
(वित्तीय वर्ष 2017-2018 के)

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned