scriptrajasthan news, envarment news tree news | ये ऐसे पेड़ जो सडक़ों पर उगल रहे जहर | Patrika News

ये ऐसे पेड़ जो सडक़ों पर उगल रहे जहर

शहर के प्रमुख मार्गो पर बहुतायत में हरे.भरे दिखने वाले सजावटी कोनाकार्पस पेड़ ऑक्सीजन नहींए बल्कि दमा रोग फैला रहे हैं। खूबसूरत दिखने से इन पेड़ों को हर जगह दनादन लगाया जा रहा है

उदयपुर

Updated: May 18, 2022 12:50:39 pm

मोहम्मद इलियास
शहर के प्रमुख मार्गो पर बहुतायत में हरे.भरे दिखने वाले सजावटी कोनाकार्पस पेड़ ऑक्सीजन नहींए बल्कि दमा रोग फैला रहे हैं। खूबसूरत दिखने से इन पेड़ों को हर जगह दनादन लगाया जा रहा है लेकिनए इन पर फूल आने के बाद परागकरण मनुष्यों व जीव जंतुओं के श्वसन तंत्र को प्रभावित कर रहा है। विशेषकर अस्थमा एवं श्वास रोगियों के लिए ज्यादा घातक है।

pad.jpg

ये पेड़ बहुत कम रखरखाव एवं कम पानी में भी विकसित होने के कारण इन्हें शहर के सौभागपुराए हिरणमगरीए सविना व रेलवे स्टेशन मार्ग सहित कई इलाकों में लगाया है। इनकी पत्तियां लम्बी एवं नुकीली नोक वाली होती हैं तथा फल गोल बटननुमा गुच्छों में लगते हैंए इस कारण इसे सामान्य भाषा में लेंसलीफ बटनवुड भी कहा जाता है। इसकी ऊंचाई 10ण्20 मीटर तक एवं तने की मोटाई 90 सेमी तक होती है। इनकी पत्तियों में टैनिन पाया जाता हैए यह मनुष्यों व जीव जंतुओं के लिए कोई उपयोगी नहीं है। इस पर कोई कीट व पक्षी भी नहीं बैठते हैं।

udaipur_1.jpg

जड़ेे भूमिगत लाइनों व सीवर तक को पहुंचाती है नुकसान
इस पेड़ की जड़ें गहराई तक फैलती है और ताकतवर होने से जमीन में पानी की पाइप लाइनों तक को नुकसान पहुंचा सकती है। अरब देशों में तो भूमिगत पाइप लाइनों को नुकसान पहुंचाने के कारण इन पेड़ों को हटाना पड़ा। इसकी जड़े भूमिगत सीवरेजए बिजलीए टेलीफोन लाइन और यहां तक की भूमिगत जल प्रवाहए अंडरग्राउंड ड्रेनेज तक को अवरुद्ध कर सकती है। यह पौधा जैवविविधता के लिए बहुत बड़ा खतरा है।

लोग नहीं लगाए घर व फॉर्म हाउस में
पर्यावरणविद डॉण् सुनील दुबे व चेतन पण्ड्या ने बताया कि कोनोकार्पस की दो प्रजातियां हैए कोनोकार्पस लेंसीफोलियस एवं कोनोकार्पस इरेक्टस। लेंसीफोलियस सोमालियाए तंजानिया के समुद्र तटीय क्षेत्रों में भी बहुतायत पाया जाता है। वहीं इरेक्टस उत्तरी एवं दक्षिणी अमरीका के ऊष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में फ्लोरिडाएमेक्सिको से लेकर ब्राजीलए पेरू तक एवं पश्चिमी अफ्रीका के तटवर्ती क्षेत्रों में सेनेगल से अंगोला तक पाई जाती है। यह पेड़ किसी काम का नहीं है। पर्यावरणविदों ने लोगों से अपील की है कि वे इसे अपने घरए फॉर्महाउस आदि पर न लगाएंए अन्यथा इससे कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

जापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातज्ञानवापी मस्जिद मामलाः सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई एक और याचिका, जानिए क्या की गई मांगऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में भीषण सड़क हादसा, पूर्णिया में ट्रक पलटने से 8 लोगों की मौतश्रीनगर पुलिस ने लश्कर के 2 आतंकवादियों को किया गिरफ्तार, भारी संख्या में हथियार बरामदGood News on Inflation: महंगाई पर चौकन्नी हुई मोदी सरकार, पहले बढ़ाई महंगाई, अब करेगी महंगाई से लड़ाईकोरोना वायरस का नहीं टला है खतरा, डेल्टा-ओमिक्रॉन के बाद अब दो नए सब वैरिएंट की दस्तक से बढ़ी चिंता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.