रमेश पटेल हत्याकांड में अब खुला ये राज, 1.50 लाख रुपए का ऑफर देकर उकसाया हत्या के लिए

रमेश पटेल हत्याकांड में अब खुला ये राज, 1.50 लाख रुपए का ऑफर देकर उकसाया हत्या के लिए

Madhulika Singh | Updated: 26 Jul 2019, 01:38:19 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

- Ramesh Murder Case शराब मुखबिरी व भूखंड विवाद में दिया था 1.50 लाख का ऑफर, जावरमाइंस Zawar Mines थाना पुलिस ने दोनों भाइयों को

उदयपुर. बहुचर्चित रमेश पटेल हत्याकांड ramesh murder case में षडय़ंत्र में शामिल रहे दो पड़ोसी भाइयों को जावरमाइंस थाना पुलिस zawar mines ने गुरुवार को धरदबोचा। दोनों भाइयों ने शराब की मुखबिरी व भूखंड की दीवार गिराने के विवाद में मृतक के चालक को 1.50 लाख रुपए का ऑफर देकर हत्या के लिए उकसाया था। चालक ने भी रमेश पटेल से पैसों की चल रही लेन-देन के विवाद व 1.50 लाख रुपए की मिली और ऑफर के चलते रमेश पटेल की हत्या Murder कर दी।

जावरमाइंस थाना पुलिस ने पीलादर निवासी रमेश पटेल की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी झाम्बुड़ा सराड़ा निवासी रमेश पुत्र शंकरलाल मीणा व पारस पुत्र जवेर मीणा से पूछताछ के बाद षड्य़ंत्रकारी पीलादर निवासी कैलाश पुत्र अम्बालाल कलाल व उसके भाई गजेन्द्र कलाल को पकड़ा था। कैलाश व गजेन्द्र मृतक रमेश पटेल के पड़ोसी है, इनके बीच पहले ही भूखंड की एक दीवार गिराने का विवाद चल रहा था। इस बीच आबकारी विभाग Excise Department ने गत दिनों गजेन्द्र के यहां छापा मारकर अवैध शराब पकड़ी थी। इस धरपकड़ में भी दोनों भाइयों को रमेश पटेल पर ही मुखबिरी का शक था, वे उससे दुश्मनी पाल बैठे। इस बीच दोनों भाइयों को पता चला कि पटेल का चालक रमेश मीणा भी उससे पैसे मांगता है और उनके बीच विवाद चल रहा है। आरोपियों ने इसकी का फायदा उठाते हुए रमेश मीणा को हत्या के लिए 1.50 लाख का ऑफर दिया। आरोपी रमेश मीणा ने तलवार से वारकर पटेल की हत्या कर दी और बाद में साथी पारस के मार्फत शव को जयसमंद जंगल में फेंक आया।

---
कई अधिकारियों ने की पड़ताल

12 जुलाई को रमेश पटेल का शव Murder in Udaipur मिलने के बाद पुलिस ने खुलासा करते हुए रमेश मीणा व पारस मीणा को पकड़ा था लेकिन ग्रामीणों के यह पहले दिन से ही गले नहीं उतरी। उन्होंने इस हत्याकांड में शातिर तस्करों व अन्य आरोपियों की भी संलिप्तता बताते हुए पुलिस द्वारा निष्पक्ष जांच की मांग की थी। इस मांग को लेकर पुलिस के साथ झड़प, पथराव, तोडफ़ोड़ व आगजनी की घटनाए हुई। माहौल शांत होने के बाद एएसपी दशरथ सिंह, अनंत कुमार, उपाधीक्षक हीरालाल राजक के नेतृत्व में स्पेशल टीम प्रभारी गोवर्धनसिंह भाटी, प्रतापनगर थानाधिकारी विवेकसिंह, जावरमाइंस थानाधिकारी भरत योगी, साइबर सैल प्रभारी हेडकांस्टेबल गजराज व कांस्टेबल लोकेश कुमार मय टीम ने जांच कर षड्य़ंत्रकर्ताओं को भी धरदबोचा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned