गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने उदयपुर रोडवेज बस स्टैण्ड पर बने नवनिर्मित भवन के लोकार्पण पर कही ये बात, देखें वीडियो

गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने उदयपुर रोडवेज बस स्टैण्ड पर बने नवनिर्मित भवन के लोकार्पण पर कही ये बात, देखें वीडियो

Pramod Kumar Soni | Publish: Dec, 29 2017 03:01:52 PM (IST) | Updated: Dec, 29 2017 03:21:44 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर. गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया आज उदयपुर में रहे।

उदयपुर . गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया आज उदयपुर में रहे। इस दौरान कटारिया ने युआईटी द्वारा रोडवेज बस स्टेण्ड पर बनाये गये नवनिर्मित भवन का लोकार्पण किया। इस मौके पर युआईटी अध्यक्ष रविन्द्र श्रीमाली, पार्षद पारस सिंघवी सहित अन्य जनप्रतिनिधि मौजुद रहे। 36 लाख की लागत से बनाये गये इस भवन को युआईटी ने आज रोडवेज प्रबंधन को सुपुर्द किया है।

 

 

यह भवन अब रोडवेज कर्मचारियों के विश्राम कक्ष और अन्य कार्यालयी कार्यों के लिये काम में लिया जायेगा। इस मोके पर गृहमंत्री कटारिया ने साल 2017 के दौरान उदयपुर में पर्यटकों, शहरवासियों और कर्मचारियों की सुविधाओं में विस्तार के लिये अहम बताया। कटारिया ने साफ किया पुरे वर्ष यह कोशिश की गई हैं कि पर्यटन स्थलों के विकास के साथ साथ अन्य क्षेत्रों में सुविधाओं को बढाया जायेगा।

 

 

READ ALSO: एक-एक बिल चढ़ाना भूलो, एक साथ अपलोड करो डाटा

उदयपुर . व्यापारियों को अपनी खरीद के एक-एक बिल का डाटा जीएसटी पोर्टल पर अपलोड करने की मगजमारी से मुक्ति मिल गई है। व्यापारी अब सीधे ही जेसन में ऑफलाइन डाटा चढ़ाकर एक साथ पोर्टल पर अपलोड कर सकेंगे। साथ ही अक्टूबर में कम्पोजिशन का विकल्प चुनने वाले व्यापारियों की रिटर्न नहीं भर पाने की परेशानी भी दूर कर दी गई है।
वाणिज्य कर विभाग ने जीएसटी पोर्टल पर यह अपडेट सुविधा शुरू कर दी है। जुलाई में जब पोर्टल खुला था तब कई व्यापारी कम्पोजिशन का विकल्प चुनने से वंचित रह गए थे और अक्टूबर में उनको इससे जोड़ा गया लेकिन अब उनके रिटर्न फाइल नहीं हो पा रहे थे।

 


व्यापारियों की इस परेशानी को दूर करते हुए पोर्टल पर तकनीकी समस्या को दूर कर दिया गया है, अब वे व्यापारी पोर्टल पर ही रिटर्न फाइल आसानी से कर पाएंगे। साथ ही व्यापारियों को खरीद के हर बिल का हिसाब-किताब पोर्टल पर देना होता था, जिससे व्यापारियों को फिडिंग में बड़ी समस्या थी। अब इसका समाधान करते हुए तय किया गया कि व्यापारी ऑफलाइन ही जेसन पर डाटा अपडेट कर दें और बाद में वे एक साथ में सारा डाटा पोर्टल पर अपलोड कर सकते हैं।

 


जीएसटी पोर्टल पर रिटर्न की स्थिति का पता करने की सुविधा प्रारम्भ कर दी गई है। अब टैक्सपेयर जीएसटी पोर्टल पर लॉगिन कर अपने सबमिट या फाइल किए गए रिटर्न की स्थिति पता कर सकते हैं। अब टैक्सपेयर को ऑफलाइन टूल द्वारा डाटा जेसन फाइल के रूप में जनरेट करने होंगे, एक बार में लगभग 10 हजार रिकॉर्ड जीएसटी पोर्टल पर सेव किए जा सकेंगे।
प्रज्ञा केवलरमानी, संयुक्त आयुक्त(प्रशासन), वाणिज्यिक कर विभाग

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned