संजीवनी ओपीडी: स्क्रीन पर डॉक्टर, जेब में दवाÓ कोरोना महामारी के इस दौर में घर बैठे उपचार

- डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट इ संजीवनी ओपीडी डॉट इन के पोर्टल के जरिए होगा उपचार

By: bhuvanesh pandya

Updated: 16 May 2020, 01:53 PM IST

भुवनेश पंडया

उदयपुर. संजीवनी ओपीडी के जरिए अब कम्प्यूटर या फोन के माध्यम से बिना चिकित्सक के पास गए सीधे घर से ही कोई भी व्यक्ति ओपीडी में पहुंचेगा और डॉक्टर को ऑनलाइन ही दिखाकर ऑनलाइन पर्ची भी ले लेगा। कोरोना महामारी के चलते लॉक डाउन में यदि किसी को उपचार की जरूरत है तो एक तरीका ऐसा है जिससे कोई भी व्यक्ति सीधे घर बैठे खुद का उपचार कर सकेगा। इसके लिए उसे 'डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू डॉट इ संजीवनी ओपीडी डॉट इन Ó पर लॉग इन करना होगा। स्वस्थ्य भारत अभियान के तहत कोरोना महामाारी में अन्य बीमारियां का घर बैठे उपचार करने के लिए ााज्य सरकार ने इसकी शुरुआत की है।

----

ये करना होगा - इ संजीवनी पोर्टल पर जाना होगा। -

ओटीपी से अपना मोबाइल नम्बर रजिस्टर्ड करना होगा।

- नोटिफिकेशन आने के बाद लॉग इन करना होगा।

- अपनी बारी का इन्तजार कर चिकित्सक से सलाह लेनी होगी।

- अपनी रोगी पर्ची स्लिप और लिखी दवाइयों का प्रिंट निकाल सकेंगे।

---------

ये मिल रही है सुविधाएं : फिलहाल इ संजीवनी सेवा पर ये उपलब्ध हैं।

- रियल टाइम टेलीमेडिसिन

- चैट सुविधा - वीडियो चैट से सलाह - ऑनलाइन ओपीडी

-----

सभी जिलों के चिह्नित सरकारी चिकित्सक परामर्श दे रहे हैं। रोगी को इ पर्ची अपने लॉगिन से मिलेगी। रोगी अपनी पुरानी दावाइयों व जांचों की जानकारी पोर्टल के माध्यम से डॉक्टर को भेज सकेंगे।

------

जैसे ही इसंजीवनी पर लॉ गिन करेंगे तो तीन प्रकार की खिड़कियां ऊपरी हिस्सें में खुलेंगी, इसमें पहली पेंशेन्ट रजिस्ट्रेशन की, दूसरी पेशेन्ट लॉगिन की और तीसरी डॉटर लॉगिन की है। सबसे पहले पंजीयन करवाना होगा। ये मोबाइल नम्बर के जरिए ओटीपी से हो जाएगा।

------

6318 टोटल कंसलटेंट हैं।

- 656 घंटे और 19 मिनट कंटलटेशन किया गया है।

- 46 चिकित्सक मरीजों को अटेंड कर रहे हैं।

- एक मिनट 50 सैकंड में ही मरीजों को तत्काल चिकित्सक उपलब्ध हो जाता है, इसके लिए ज्यादा इन्तजार नहीं करना है।

-----

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned