खुद कैंसर से लड़कर खड़ी हुई, अब समाज को कर रही कोरोना मुक्त

- धानमंडी में कार्यरत है डॉ कविता बडजात्या

By: bhuvanesh pandya

Published: 23 Apr 2020, 09:45 AM IST

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. ये चिकित्सक हर किसी के लिए किसी उदाहरण से कम नहीं है, इसलिए कि ये खुद कुछ समय पहले तक कैंसर जैसी भयावह बीमारी से लड़ रही थी, लेकिन अब वे उससे जंग जीत समाज को कोरोना मुक्त करने के लिए सेवाएं दे रही है। यहां बात धानमंडी स्थित अरबन हैल्थ ट्रेनिंग सेंटर में कार्यरत डॉ कविता बडजात्या की है। डॉ कविता को अगस्त 2018 में ब्रेस्ट कैंसर हुआ था, इसके बाद उन्होंने अहमदाबाद से मशवरा कर अपना उपचार आरएनटी मेडिकल कॉलेज से करवाया। इसके बाद अब वे स्वस्थ्य होकर कोरोना के इस संक्रमण काल में भी पूरे मन से धानमंडी स्वास्थ्य केन्द्र पर ड्यूटी दे रही है।

-------------

डय़ूटी टाइम सुबह 9 से अपरह्न तीन बजे तक का है, बकौल डॉ कविता पहले ओपीडी 350 से अधिक रहती थी, लेकिन इन दिनों करीब 150 से 200 मरीज आते हैं। सभी को पूरा समय दिया जाता है, ताकि उन्हें कोई परेशानी नहीं हो। कोरोना संक्रमण के इस दौर में डर के सवाल पर उन्होंने बताया कि यदि वे डरती तो कभी डॉक्टर नहीं बनती। बेटा प्रशान्त भी डॉक्टर है, तो पति अनिल बडजात्या मार्बल व्यवसायी है। दोनों पूरा सपोर्ट करते हैं। डॉ कविता ने बताया कि मरीज सुबह दो घंटे में ही ज्यादा पहुंचते हैं, ऐसे में हॉस्पिटल भी तय समय पर ही पहुंचना ही होता है। बीमारी से उठकर दूसरों का उपचार करने में जुटी ये चिकित्सक स्वयं पूरी सावधानी रखती है व मरीजों को भी सावधानी रखने की सलाह देती है। फोटो पकंज जी के पास

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned