उदयपुर में छह नए कोल्ड स्टोरेज खोले, 27 हजार स्वास्थ्य कार्यकर्ता तय

- कोरोना वैक्सीन आने से पहले तैयारियां
- अब तक 117 स्टोरेज, जल्द होंगे 121

By: bhuvanesh pandya

Published: 30 Nov 2020, 08:56 AM IST

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. उदयपुर में कोरोना वैक्सीन पर कवायद तेज कर दी गई है। कोरोना वैक्सीन आने से पहले इसकी पूर्व तैयारी को लेकर जिले में अब तक 6 नए कोल्ड स्टोरेज खोले गए है, वहीं वैक्सीन टीकाकरण कार्य करने वाले 27 हजार स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के नाम तय कर लिए गए है। अब तक जिले में कुल 111 वैक्सीन कोल्ड स्टोरेज थे, जो अब बढ़कर 117 हो चुके हैं। जल्द ही चार स्टोरेज और खोले जाएंगे। इसके साथ ही संख्या बढ़कर 121 हो जाएगी। एक मोटे अनुमान के आधार पर यह देखा जा रहा है कि यदि वैक्सीन आती है तो भी इसे हर व्यक्ति तक पहुंचने में करीब आधा वर्ष गुजर जाएगा। टीकाकरण जिले के 36 लाख लोगों का किया जाएगा, वहीं करीब साढ़े पांच से छह लाख शहर की जनसंख्या को लेकर तैयारियां की जा रही हैं।
-----

हैल्थ केयर वर्कर-
- सरकारी - 15000

- प्राइवेट - 12000
----

जैसा कि प्रोग्राम ऑफिसर मुदित माथुर ने बताया -
कोल्ड स्टोरेज- 111

छह नए खोले, चार अगले माह खोलेंगे।
छह नए खोले - मादड़ी अरबन पीएचसी, चित्रावास, जयसमन्द, जगत, टोकर, लकड़वास,

प्रस्तावित खुलेंगे - चित्रकूट नगर, सरेरी, देवला, ढेलाणा
कोल्ड स्टोरेज नए कुल- 117

------
इसे किया अपडेट ताकि सुरक्षित रहे वैक्सीन

इवीन इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इटेंलिजेंट नेटवर्क यानी ऐसा सिस्टम, जिसमें सेंटर संभालने वाली हर एलएचवी को मोबाइल दिया गया है, इसमें एप्लिकेशन डाउनलोड है, जब भी वैक्सीन खर्च होगा तो कितनी वैक्सीन उपलब्ध है, वह मांग सकेंगे। जिला पर आरसीएचओ, स्टेट परियोजना निदेशक टीकाकरण के माध्यम से ये जानकारी स्वत: ही अपडेट होती रहती है। एलएचवी जो कोल्ड चेन हैंडलर है, वह इसमें जानकारी देती रहती है, जिससे जिला स्तर पर ऑटोमेटिक डेटा एप में तैयार हो जाता ह। इससे आगे कितनी वैक्सीन मंगवानी है इसका पता चल जाता है।
-----

फोन पर एसएमएस और कमरे में घंटी- टेम्प्रेचर लॉगर ऐसा सिस्टम है, जो आईएलआर यानी जिसमें वैक्सीन रखी है उस फ्रीज के साथ जुड़े हैं, वह उस फ्रीज का तापमान दो डिग्री से कम या आठ डिग्री से अधिक होता है, तो उस कमरे में घंटी बजने लगती है, जबकि उसमें लगे सिम पर जिसके नंबर है, उसे एसएमएस के माध्यम से तत्काल जानकारी दी जाती है, इससे इस तापमान को तत्काल नियंत्रित किया जा सकेगा। आईएलआर में वर्तमान में जो वैक्सीन है उसके लिए दो से 8 डिग्री तापमान जरूरी है।

तैयारियां जोरों पर
तैयारियां तेजी से चल रही है, जब वैक्सीन गाइड लाइन के साथ सरकार उपलब्ध करवाएगी उस सिस्टम के आधार पर टीकाकरण शुरू करेंगे।

डॉ. अशोक आदित्य, आरसीएचओ, उदयपुर

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned