उदयपुर में स्मार्ट सिटी की बैठक में बोर्ड अध्यक्ष डॉ. मंजीतसिंह बोले...हेरिटेज कामों की रफ्तार बढ़ाओ, शहर में दोगुनी कर दो सिटी बसें

उदयपुर में स्मार्ट सिटी की बैठक में बोर्ड अध्यक्ष डॉ. मंजीतसिंह बोले...हेरिटेज कामों की रफ्तार बढ़ाओ, शहर में दोगुनी कर दो सिटी बसें

Mukesh Hingar | Updated: 07 Dec 2017, 09:33:01 AM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

-ट्रांसपोर्ट ऐसा हो कि शहरवासियों को मिनटों में मिले सुविधा

 

उदयपुर . स्मार्ट सिटी उदयपुर में हेरिटेज संरक्षण के लिए इतना बजट है, लेकिन काम दिख नहीं रहा है। हैरिटेज का काम हैंग क्यों हो गया है। काम करने वाली एजेंसी को आंख दिखाकर काम जल्दी से कराओ। शहर में बेहतर परिवहन की सुविधा के लिए 27 सिटी बसों से कुछ होना-जाना नहीं है। संख्या दोगुनी कीजिए। व्यवस्था ऐसी हो कि मिनटों में शहरवासियों को सुविधा उपलब्ध हो।

 

READ MORE : यहां नसबंदी कराने आई महिलाओं को फर्श पर लिटाया, विरोध पर मामले ने तूल पकड़ा तो अधिकारियों ने बताई ये वजह


यह बात बुधवार को कलक्ट्रेट सभागार में उदयपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड की बोर्ड बैठक में बोर्ड अध्यक्ष एवं स्वायत्त शासन विभाग के प्रमुख शासन सचिव डॉ. मंजीत सिंह ने कही। अध्यक्षता करते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि वॉल सिटी में हेरिटेज के विकास एवं संरक्षण के लिए पांच करोड़ रुपए से ज्यादा के काम हाथ में लिए हैं, लेकिन काम नहीं दिख रहा है। हेरिटेज के काम की स्पीड जल्द बढ़ाएं और वास्तव में काम दिखना चाहिए। इसके लिए लगातार निगरानी की जाए।

 

जब बताया गया कि सुलभ परिवहन की सुविधा के लिए 27 सिटी बसें जनवरी में शुरू की जाएंगी तो उन्होंने कहा कि इतनी सी बसों से कुछ नहीं होना है। बसों की संख्या डबल कर दीजिए, लोगों को मिनटों में बस मिलनी चाहिए। उन्होंने जयपुर की व्यवस्था देखने का सुझाव भी दिया। डॉ. सिंह ने कहा कि नागरिकों को बेहतरीन ट्रान्सपोर्ट सेवा के मद्देनजर सिटी बस सेवा में एसी एवं डीलक्स बसों को भी शामिल करें ताकि आमजन को सस्ता, सुरक्षित एवं प्रदूषण रहित परिवहन सेवाएं सुलभ हो।

 

स्मार्ट सिटी सीईओ सिद्धार्थ सिहाग ने सिंह को बताया कि 27 बसें प्रस्तावित हैं, लेकिन आठ अभी चल भी रही हैं। सीईओ ने स्मार्ट सिटी कार्य की प्रोग्रेस रिपोर्ट बोर्ड के समक्ष रखी। उन्होंने वॉल सिटी एरिया के लिए किए करोड़ों के टेंडर, गुलाबबाग में एयर जिम्नेजियम पार्क, 40 स्मार्ट क्लास रूम, 190 केवी सोलर पैनल स्थापना, कन्ट्रोल एंड कमांड सेंटर, पार्कंग सुविधा, सेनेट्री वेंडिंग मशीन स्थापना सहित कई काम बताए।

ठोस कचरा निस्तारण पर कुछ तो करें
ठोस कचरा निस्तारण प्रोजेक्ट की बात आई तो डॉ. सिंह ने कहा कि इसे प्राथमिकता से किया जाए। स्वच्छता रैंकिंग में भी इसके अच्छे नंबर हैं। इसके लिए कुछ तो करना होगा। निगम ने टेंडर किए, लेकिन सफलता नहीं मिली। अभी अजमेर पैटर्न अपनाया, लेकिन अभी इसका अंतिम निर्णय नहीं हो सका है। बैठक में यूआईटी चेयरमैन रवीन्द्र श्रीमाली, शहरी विकास मंत्रालय के निदेशक प्रमोद कुमार, नगर निगम के उपायुक्त भोज कुमार, गिर्वा उपखण्ड अधिकारी कमर चौधरी, वित्तीय सलाहकार आबिद खान, अतिरिक्त मुख्य अभियंता अरुण व्यास आदि मौजूद थे।

 

अम्बेरी-सुखेर व बलीचा-सरस रोड स्मार्ट होगी
बैठक में दो प्रमुख मार्गों को स्मार्ट रोड बनाने का निर्णय करते हुए रोड चिह्नित की गई। अम्बेरी से सुखेर तथा अहमदाबाद-बलीचा हाईवे से शहर में प्रवेश वाली रोड का चयन किया गया। डॉ. सिंह ने इसके लिए 15 दिन में डीपीआर तैयार करने के निर्देश दिए। कहा कि किसी भी हाल में निविदाएं विलम्बित न हों और जहां कार्यादेश दे दिए गए हैं, वहां त्वरित कार्य हो। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत कराए जाने वाले कामों गुणवत्ता, तकनीक एवं लागत पर भी ध्यान दिया जाएगा। इसके लिए जयपुर, कोटा एवं उच्च तकनीकी संस्थानों के मॉडल्स एवं विशेषज्ञों के अनुभव साझा किए जा सकते हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned