तस्करी अभी भी जारी, आबकारी पुलिस के हाथ लगी गिनी-चुनी सफलता

स्लग: - तमाम बंदोबस्त के बावजूद तस्करों की तह तक नहीं पहुंच पाया विभाग

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. हर जिले में आबकारी थाना, जगह-जगह सूत्र, चहुंओर विभागीय तंत्र लेकिन तस्करी तह तक नहीं पहुंच पाए विभागीय हाथ। हालांकि विभाग को गिनी-चुनी सफलता मिली है, लेकिन अपेक्षाकृत शराब की तस्करी पर न तो बैन लगा और न ही तस्करी सवारियां थककर रुक गई, बल्कि जैसे-जैसे शराब तस्करों के हाथों तक पहुंचने की दौड़ विभाग ने लगाई वैसे-वैसे तस्करी उड़ान तेज और ऊंची होती चली गई। इन थानों से लेकर उसके बेड़े व बंदोबस्त पर बड़ी राशि लुटाई गई, लेकिन माकूल सफलताएं इनके हाथ नहीं लग पाई। आबकारी थानों एवं आबकारी निरोधक दल, कार्यालयों पर वर्ष 2013-2014 से वर्ष 2018-19 तक कुल 2, 99,71,70,908 रुपए खर्च हुए हैं। इनमें कार्यरत अधिकारियों, कर्मचारियों के वेतन भत्ते, वाहन, भवन किराया, रखरखाव सहित सभी खर्च शामिल हैं।

-----

वर्तमान में प्रदेश में 149 थानेराज्य सरकार की ओर से 23 अक्टूबर, 2005 व 06 मार्च, 2012 को जारी आदेश के बाद वर्तमान में 149 आबकारी थाने संचालित हैं। सभी आबकारी थानों का कार्य अवैध शराब की तस्करी रोकना, उन्हें पकडऩा तथा अवैध शराब के निर्माण, भण्डारण, परिवहन एवं विक्रय पर नियंत्रण करना है।

----

यूं की कार्रवाई

आबकारी थानों की ओर से वर्ष 2013-14 से वर्ष 2018-19 तक अवैध शराब से सम्बन्धित कुल 44811 अभियोग, आबकारी निरीक्षकों की ओर से दर्ज अभियोगों को छोड़कर दर्ज किए गए है। आबकारी विभाग की ओर से विगत 5 वर्षों में शराब तस्करी के कुल 19698 प्रकरण दर्ज किए गए है। उक्त प्रकरणों में से कुल 8139 प्रकरणों में न्यायालयों की ओर से अपराधियों को सजा एवं जुर्माना किया गया है। अन्य प्रकरण न्यायालयों में विचाराधीन हैं।

----

उदयपुर जिले में थानेउदयपुर पूर्व, उदयपुर पश्चिम, उदयपुर गिर्वा, मावली, गोगुन्दा, सलूम्बर, खेरवाड़ा शामिल हैं, जबकि संभाग में बांसवाड़ा जिले में बांसवाड़ा, कुशलगढ़, घाटोल, डूंगरपुर जिले में डूंगरपुर और सागवाड़ा हैं। इसी प्रकार चित्तौडगढ़़ में चित्तौड़, कपासन, डूंगला, बेगूं, निम्बाहेड़ा हैं। राजसमन्द में राजसमन्द, नाथद्वारा, देवगढ़ और प्रतापगढ़ जिले में प्रतापगढ़, छोटी सादड़ी व धरियावद में आबकारी थाने हैं।

------

आंकड़े एक नजर में

जिला- थानों की संख्या - जब्त शराब व मादक पदार्थों की कीमत (वर्ष 13-14 से 18-19 तक)
जयपुर शहर- 07-36864342.61

जयपुर ग्रामीण- 06-92215212.50

दौसा- 03- 5039230

अलवर- 07-162459595

झुंझूनूं- 06-454375

सीकर- 05

भरतपुर- 04-2192440.72

धौलपुर- 02-1220815

सवाई माधोपुर- 03-337386.375

करौली- 03-1335826

अजमेर- 07- 90817000

टोंक - 04-16351801

भीलवाड़ा- 06- 530215

नागौर- 05-14071284.5

जोधपुर- 06-2652727.4

बाड़मेर- 03-38494340

जैसलमेर - 02-1465673

जालोर- 03- 11577978

पाली- 06- 883395

सिरोही- 03- 4339795

श्रीगंगानगर- 08-

बीकानेर- 05- 42083478

चूरू- 05- 100502452.8

हनुमानगढ़- 04- 17102612

बारां- 03- 6740552.5

बूंदी- 03-

झालावाड़- 04- 3905608

----

2014-15 से मई 19 तक की कार्रवाई

जिला- दर्ज प्रकरण- दोषियों के विरूद्ध चालान- इतने मामलों में अपराधियों को सजा

अजमेर- 478-435-129

भीलवाड़ा- 2007-1895-524

नागौर- 1727-1576-1051

टोंक- 4-4-4

भरतपुर- 238-130-119

धौलपुर- 4-3-3

करौली- 2-1-0

सवाई माधोपुर0-0-0

कोटा- 8-7-7

बूंदी- 0-0-0

बारां- 0-0-0

झालावाड़- 0-0-0

उदयपुर- 396-305-211

राजसमन्द- 785-728-419

चित्तौडगढ़़- 1578-1417-527

प्रतापगढ़- 2-2-2

डूंगरपुर- 1153-1027-820

बांसवाड़ा- 1623-1539-848

जोधपुर- 1044-900-241

सिरोही- 3-3-3

बाड़मेर- 61-61-61

जैसलमेर- 25-25-7

जालोर- 1058-984-502

पाली- 1562-1422-529

बीकानेर- 8-8-0

चूरू- 1681-1681-668

हनुमानगढ़- 2063-1894-562

श्रीगंगानगर- 18-18-12

जयपुर शहर- 146-136-32

जयपुर ग्रामीण- 629-583-243

दौसा- 639-571-318

झुंझुनूं- 54-52-01

सीकर 84-22-25

अलवर- 618-557-271

--------

कुल - 19698-17986-8139

-----

इनका कहना है मापदंड के मुताबिक गश्त, धरपकड़, निरीक्षण नहीं करने वाले अधिकारियों के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा रही है। जोन स्तरीय समीक्षा बैठक में चर्चा की गई है। बेहतर गश्त व निरीक्षण के लिए आईटी का उपयोग पर जोर दिया जा रहा है। अधिकारियों में स्पर्धी माहौल बनाकर उनमें तेजी लाने की दिशा में रेंकिंग सिस्टम लाया जाएगा। इससे कार्य बेहतर होगी।

बिष्णुचरण मल्लिक, आबकारी आयुक्त, राजस्थान

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned