Sohrabuddin Tulsi Encounter : सोहराबुद्दीन के तीनों भाई नहीं हुए कोर्ट में पेश...एएसआई व हैड कांस्टेबल के हुए बयान

www.patrika.com/rajasthan-news

By: Krishna

Published: 02 Sep 2018, 07:29 PM IST

मो.इलियास/ उदयपुर . बहुचर्चित सोहराबुद्दीन-तुलसी एनकाउंटर मामले में शनिवार को मुंबई में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट में हैड कांस्टेबल भूरालाल व एएसआई किशनसिंह सोलंकी के बयान हुए। पेशी पर पूर्व की तारीखों की तरह इस बार ही सोहराबुद्दीन के तीनों भाई कोर्ट में गवाही देने नहीं पहुंचे।सोहराबुद्दीन के भाई रूबाबुद्दीन व शाहनवाजुद्दीन के लिए उज्जैन पुलिस ने जवाब भेजा कि वे उनके घर पर नहीं है तो समन तामील नहीं हुए हैं। सीबीआई ने रुबाबुद्दीन के घर डाक के जरिये भी समन भेजा था, लेकिन वह भी लौट आया। तीसरे भाई नयाबुद्दीन के वकील ने कोर्ट में बताया कि उसका एक्सीडेंट हो गया है और वह अहमदाबाद के हॉस्पिटल में भर्ती है। वकील ने हॉस्पिटल के दस्तावेज भी जमा करवाए। कोर्ट ने सीबीआई को निर्देश दिए कि जो गवाह लम्बे समय से नहीं आ रहे हैं, उन्हें ड्रॉप किया जाए। दोनों मामलों से जुडे़ अनुसंधान अधिकारियों की सूची पेश की जाए। खास बात यह है कि सोहराबुद्दीन व तुलसी के परिजन पिछले कई माह से लगातार पेशियां चूक रहे हैं और बयान देने कोर्ट में नहीं पहुंच रहे है। इधर, सोहराबुद्दीन व तुलसी का साथी आजम भी गिरफ्तारी का डर बताकर बयान देने के लिए कोर्ट नहीं पहुंच रहा है। मामले में परिजनों के अलावा करीब-करीब सभी महत्वपूर्ण गवाहों के बयान हो चुके हैं।- हथियार इश्यू किसने किए

हैड कांस्टेबल भूरालाल ने बताया कि वर्ष2006 में वह पुलिस लाइन में हथियारों के रख रखरखाव व जाप्ते को इश्यू करने का काम करता था। 25 दिसम्बर 2006 को एएसआई नारायण सिंह को एक रिवॉल्वर व 12 कारतूस इश्यू हुए थे लेकिन मैं उस दिन वहां ड्यूटी पर नहीं था। एेसे में ध्यान नहीं है कि हथियार किसने इश्यू किया था। एएसआई नारायण सिंह ने हथियार जब वापस जमा कराए थे, तब मैं ड्यूटी पर था। नारायणसिंह ने 6 कारतूस वापस जमा कराए थे। उसे बताया कि रिवॉल्वर व छह कारतूस गुजरात के एक मुकदमे में जब्त हो गए हैं। इसका इन्द्राज रजिस्टर में किया गया। बचाव पक्ष के वकील के पूछने पर गवाह ने बताया कि सभी पुलिसकर्मियों को हर वर्ष पुलिस लाइन में मौजूद हथियार, थानों में रखे हथियार व किसी भी अधिकारी के नाम से इश्यू हुए हथियार से प्रेक्टिस करवाई जाती है।

 

READ MORE : सरकार करेगी शिक्षकों की पौन करोड़ की ‘गोठ’

 

एप्लीकेशन देखकर कहा

 

हां छुट्टियां दी थीकिशनसिंह सोलंकी ने बताया कि वह 2006 में पुलिस लाइन में एसआई आर्मोरर था। आरआई ओम कुमार थे, बाद में कौन आरआई रहे, मुझे याद नहीं। एलओ और आरआई छुट्टी पर होते थे तो जवानों को छुट्टी देने का काम करता था। उस समय छुट्टी पर कौन-कौन गया, याद नहीं। सीबीआई पीपी ने कोर्ट में सोलंकी को एप्लीकेशन दिखाई तो हस्ताक्षर पहचानते हुए सोलंकी ने कहा, हां नारायणसिंह, युद्धवीर, करतार व दलपत सिंह की छुट्टी स्वीकृत की थी। बचाव पक्ष के वकील के पूछने पर सोलंकी ने बताया कि कांस्टेबल से एसआई तक हर पुलिसकर्मी को प्रतिवर्ष 25 सीएल मिलती है और ये छुट्टियां वह कभी भी ले सकते हैं।

Show More
Krishna Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned