पुलिस की टोपी पर ही चली एसीबी की ‘मोटी’ लाठी तो गांव की पगडंडिंयां भी घूस के ‘कीचड़’ से सनी

- खाकी पर चढ़ा भ्रष्टाचारी रंग - वर्ष 2019 के हाल

By: bhuvanesh pandya

Published: 27 Jul 2020, 10:02 AM IST

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने वर्ष 2019 में सर्वाधिक मामले पुलिस पर ही दर्ज किए। सर्वाधिक प्रकरण में पुलिस ही पकड़ी गई। खास बात ये कि एसीबी राजस्थान के हत्थे चढ़े कुल 424 भ्रष्टाचारियों में से सर्वाधिक दाग खाकी के दामन पर चढ़े। एसीबी ने गत वर्ष कुल मामलों में से 96 मामले पुलिस में घूस लेने के पकड़े। दूसरी ओर पंचायतों में व्याप्त भ्रष्टाचार के मामले भी 62 सामने आए। शर्मनाक ये भी है कि राजस्थान में चंद विभागों को छोड़ ज्यादातर विभागों के कार्मिक घूस के इस दलदल में दबे मिले।

-----

भ्रष्‍टाचार निरोधक ब्‍यूरो में विगत एक वर्ष 2019 में प्रदेश के विभिन्‍न कार्यालयों में कार्यरत कर्मचारियों, अधिकारियों के विरूद्ध भ्रष्‍टाचार निवारण अधिनियम के अन्‍तर्गत कुल 424 प्रकरण पंजीबद्ध किए गए हैं।

-----

प्रकरणों में की गई कार्रवाईप्रकरणों की संख्‍या- 424न्‍यायालय में चालान पेश- 81न्‍यायालय में अंतिम प्रतिवेदन पेश- 01अभियोजन स्‍वीकृ‍ति में 36अन्‍वेषण की विभिन्‍न प्रक्रियाओं में लम्बित- 306कुल योग- 424

------

वर्ष 2018/19के हाल: कार्रवाई और चाल - भ्रष्‍टाचार निरोधक ब्‍यूरो राजस्‍थान द्वारा वर्ष 2018 में कुल 372 प्रकरण दर्ज किए गए थे, जबकि वर्ष 2019 में 424 प्रकरण दर्ज किए गए। वर्ष 2018 की तुलना में वर्ष 2019 में दर्ज प्रकरणों की संख्‍या में वृद्धि हुई है।- राज्‍य सरकार भ्रष्‍टाचार पर अंकुश लगाने के लिए एसीबी के कार्यो की गत 27 नवम्बर 2019 को उच्‍च स्‍तरीय समीक्षा बैठक ली गई थी। इसमें भ्रष्‍टाचार निरोधक तंत्र को और प्रभावी बनाने के उददेश्‍य से अनेक निर्णय लिये गये । मुख्‍य सतर्कता अधिकारियों की भूमिका को और सशक्‍त बनाये जाने का निर्णय लिया गया। एसीबी से प्राप्‍त प्रकरणों के समयबद्ध निस्‍तारण एवं आय से अधिक सम्‍पत्ति के प्रकरणों में त्‍वरित कार्रवाई के निर्देश दिए गये। भ्रष्‍ट एवं अक्षम अधिकारियों की अनिवार्य सेवानिव़ति की कार्रर्वा करने का निर्णय लिया गया।

-----

फेक्ट फाइल 2019इन विभागों में पकड़े 1-1 मामले ...- राजस्व, एग्री मार्केटिंग, आर्ट कल्चर, टेक्स, डेयरी, एफएसएल, जीडब्ल्यूडी, इंकम टेक्स, आईटी, जेडीए, खादी, ओएनजीसी, पी एण्ड टी, आरएफसी, आरएचबी, आरएसआरडीसी, आरएसएलडीसी, सचिवालय, टीएडी, तकनीकी शिक्षा, विश्वविद्यालय, पशु चिकित्सा विभाग। -------यहां पकड़े 2-2 मामले कृषि, आयुर्वेद, इएसआई,आईटीआई, प्रदूषण, प्रोसिक्यूशन, रेलवे, रिको, आरपीएफ, जिला परिषद। ----तीन-तीन मामले न्याय, लेबर, सप्लाई, डब्ल्यूसीडीडी। ---चार-चार मामले बैंक, पीएचइडी, आरएसआरटीसी।---5 से 15 तक मामले- वन विभाग-6- आबकारी- 11- चिकित्सा- 9- नारकोटिक्स- 5- पीडब्ल्यूडी- 6- ट्रांसपोर्ट- 5- वाटर रिसोर्स- 08------15- 25 मामले - शिक्षा- 17- ऊर्जा- 20- यूडीएच- 25

------

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned