चिकित्सकों की संख्या कम होने से 250 सीटों का सपना एक बार तो टूट गया

आरएनटी मेडिकल कॉलेज

आरएनटी मेडिकल कॉलेज नहीं साबित कर पाया एक बार में अपना पक्ष - मार्च के पहले

By: bhuvanesh pandya

Published: 01 Mar 2020, 10:35 PM IST

भुवनेश पंड्या
सप्ताह में फिर होगा निरीक्षण उदयपुर. एमबीबीएस की 200 से 250 सीटे करवाने के लिए लगातार प्रयासरत आरएनटी मेडिकल कॉलेज की राह में डॉक्टरों की कमी आड़े आ गई। गत दिनों 10 और 11 दिसम्बर को हुए एमसीआई के निरीक्षण में भले ही अन्य व्यवस्थाएं बेहतर रही, लेकिन करीब 20 चिकित्सकों की संख्या कम होने से 250 सीटों का सपना एक बार तो टूट गया। एमसीआई ने इस निरीक्षण को पदों के लिहाज से सफल नहीं माना है। यदि चिकित्सकों की संख्या पूरी होती तो 250 सीटों पर पहली बार में ही मुहर लग जाती। हालांकि आने वाले सात दिन यानी मार्च माह के पहले ही सप्ताह में फिर से निरीक्षण होगा, इसके लिए कॉलेज ने कमर कस ली है।

-----

ये निकाला पहला फंडा

वैसे तो चिकित्सक सरकार लगाती है, लेकिन सहायक प्रोफेसर के पदों पर कॉलेज स्तर पर चिकित्सकों को लगाया जा सकता है, तो आरएनटी के आठ सहायक आचार्यों को पदोन्नत कर सह आचार्य बना दिया गया है, ऐसे में जो पद सहायक आचार्य के रिक्त होंगे उन पदों पर कॉलेज स्तर से चिकित्सक लगाए जा सकेंगे। कॉलेज प्रशासन ने गत 24 फरवरी को इन चिकित्सकों को पदोन्नत कर सहायक से सह प्रोफेसर बनाया है। - डॉ सोनिका चौधरी - डॉ मुक्ता सुखाडिय़ा - डॉ मीनाक्षी शर्मा - डॉ संध्या मिश्रा - डॉ गजानन्द मित्तल - डॉ शिवकुमार - डॉ निराली सालगिया - डॉ जमील मोहम्मद

------

वर्तमान में 250 सीटों के लिए 192 चिकित्सकों की जरूरत है, और आरएनटी में करीब 170 चिकित्सक कार्यरत है, तो कॉलेज जल्द से जल्द अन्य चिकित्सकों को लगाने की राह तलाश रहा है। एमसीआई के नियमानुसार दस प्रतिशत चिकित्सक कम हो तो भविष्य में भरपाई की बात पर तय बढ़ाई जाने वाली सीटों पर मुहर लग सकती है, लेकिन इससे अधिक संख्या है तो निरीक्षण दुबारा करवाना होता है।

-----

सभी के अवकाश निरस्त आरएनटी प्रशासन ने सभी विभागाध्यक्षों को आदेशित किया है कि किसी भी चिकित्सक को अकारण अवकाश जारी नहीं किया जाएगा, जरूरत पर अवकाश निरीक्षण के बाद ही स्वीकृत किए जाएंगे।

----

सरकार ने भी शुरू की पद भरने की प्रक्रिया राज्य सरकार ने कई वर्षों बाद स्थाई रूप से चिकित्सकों के पद भरने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। सरकारने 17 जनवरी को विज्ञापन जारी कर दिया है। इसमें राजस्थान लोक सेवा आयोग के माध्यम से ये पद भरे जाएंगे। सरकार असिस्टेंट प्रोफेसर (ब्रोड स्पेशलिटी और सुपर स्पेशलिटी) के पद पर कुल 176 और सीनियर डेमोस्ट्रेटर के पद पर कुल 93 पद भरने जा रही है।

----

इस बार कुछ पदों की कमी से हम 250 सीट लाने में असफल जरूर हुए हैं, लेकिन हमने फिर से प्रयास शुरू कर दिए हैं, ताकि कुछ दिनों में ही होने वाले एमसीआई के निरीक्षण में हम सफल हो और हमें 250 सीट मिल जाए।

डॉ लाखन पोसवाल, प्राचार्य आरएनटी मेडिकल कॉलेज उदयपुर

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned