scriptThe farmers of Padra had made their sucees stoty sandeep purohit 10101 | पादरड़ा के किसानों ने गढ़ी अपनी किस्मत, पत्रिका बना था आवाज | Patrika News

पादरड़ा के किसानों ने गढ़ी अपनी किस्मत, पत्रिका बना था आवाज

कभी खेती को तरस रहे थे, आज यहां से सब्जी राज्य से बाहर जा रही है

उदयपुर

Published: March 05, 2022 03:21:49 pm

संदीप पुरोहित

जमीन दरक रही थी, कंठ सूख रहे थे। खेत पानी के लिए तरस रहे थे। किसान बेबस थे। जीवनयापन के लिए पलायन कर रहे थे। इस हताशा और निराशा के अंधकार को प्रकाशमान किया राजस्थान पत्रिका और किसानों ने कंधे से कंधा मिलाकर। इन दोनों के बीच सेतु की भूमिका निभाई गांधी ग्राम जनजागरण अभियान के संयोजक लक्ष्मीनारायण पंड्या ने। आज से 25 वर्ष पहले सराड़ा तहसील के दस गांवों के किसान पानी को जाता हुआ देखते थे, लेकिन उससे अपने खेतों की सिंचाई नहीं कर पा रहे थे। राजस्थान पत्रिका उनकी आवाज बना और पहल की। पत्रिका की अभिप्रेरणा, किसानों और पंड्या के प्रयासों ने इस इलाके की पूरी तस्वर ही बदल दी। कभी खेती के लिए तरस रहे थे, आज यहां से सब्जी प्रदेश से बाहर जा रही है।
पादरड़ा के किसानों ने गढ़ी अपनी किस्मत, पत्रिका बना था आवाज
पादरड़ा के किसानों ने गढ़ी अपनी किस्मत, पत्रिका बना था आवाज
उदयपुर से करीब 55 किलोमीटर दूर सराड़ा तहसील के पादरडा व अन्य गांवों में 1997 में पानी की कमी के कारण किसानों ने खेती से मुंह मोड़ लिया था। जयसमन्द व डाया बांध में पानी कम हाने से नीचे के गांवों में सिंचाई के लिए जल नहीं मिलने से आदिवासी किसान परेशान थे। जयसमन्द झील से निकली नहरें पानी की कमी से सूखी पड़ी थी, लेकिन खेतों से कुछ दूरी पर ही टीडी नदी बह रही है, इसमें वर्ष में कम से कम दस माह पानी बहता हुआ सोम कमला आम्बा डेम होता हुआ गुजरात जाता है।
पत्रिका बना था आवाजइस पानी को रोककर बनी हुई जयसमंद की नहर में डाल दिया जाए तो हमेशा पानी मिलता रहेगा। किसान यह जानते थे पर वे झिझक रहे थे। पत्रिका आगे आया, लक्ष्मीनारायण पंड्या ने सबको साथ लेकर कार्य को अंजाम देने काे ब्लूप्रिंट तैयार किया। इसके बाद किसानों ने अपने खेतों को बचाने के लिए हल छोडकर गेंती पावडा उठा लिया। देखते ही देखते सैंकडों लोगों ने श्रमदान की शपथ ली। फिर डेढ़ किलोमीटर की नहर खोद डाली, जिसे जयसमंद की पक्की नहर से जोडकर अपने खेतों में पानी ले आए। राजस्थान पत्रिका के 3 अक्टूबर 1997 के अंक में 'सिंचाई सुविधाओं के लिए ग्रामीण जुटे हैं नहर खोदने में' शीर्षक से समाचार भी प्रकाशित किया गया । इसके बाद सरकार और स्थानीय नेता हरकत में आए। आदिवासी बहुल पादरडा गांव, जो कभी उपेक्षित था, वह पत्रिका की खबर के बाद रातों रात सुर्खियों में आ गया।
पादरड़ा के किसानों ने गढ़ी अपनी किस्मत किसान खेतों में पानी ले आए, पर स्थाई समाधान नहीं हो पा रहा था। पत्रिका और पंड्या के प्रयासों के साथ ही स्थानीय तत्कालीन सराडा विधायक रघुवीर मीणा भी आगे आए। मुहिम को गति दी। अंतत: किसानों की सरकार ने सुनी। अशोक गहलोत सरकार, तत्कालीन जनजाति क्षेत्रीय विकास मंत्री बनवारी लाल बैरवा ने इस आदिवासी क्षेत्र में एनिकट बनाने और पक्की नहर के लिए 1 करोड़ 38 लाख रुपए दिए। इसके बाद तो इस इलाके के पंख लग गए।
पादरड़ा के किसानों ने गढ़ी अपनी किस्मत 25 साल पहले किए गए श्रमदान के कारण ही आज पादरड़ा, बटुका, आम्बा, मउड़ा, धाणी, डिंगरी, केरपुरा, चंदाजी का गुढ़ा, मेलाणा, धोलादाता के खेतों में गेहूं, चना, मक्का, उड़द, ग्वार जैसी फसले लहलहा रही है। पादरडा तो सब्जियों एवं फलों से सरसब्ज है। यहां के किसान रमेश कुमार मीणा एवं मांगीलाल मीणा का कहना है कि सबकी मेहनत और पत्रिका के प्रयास से आज इस गांव के किसान औसतन 2 से 5 लाख रुपए प्रतिवर्ष कमा रहे हैं।
newsletter

Sandeep Purohit

साहित्य, सिनेमा और राजनीतिक मसलों में गहरी रूचि। खबरों की मीमांसा वाले कॉलम निगहबान के लेखक। 22 वर्षो से पत्रकारिता में सक्रिय। प्रिंट, डीजिटल और टीवी में समान अधिकार। वर्तमान में उदयपुर संस्करण के संपादक का दायित्व। पत्रिका के ही डेली न्यूज का संपादन भी किया। पत्रकारिता में डॉक्टरेट।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

अनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'Haj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायालगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’Asia Cup Hockey 2022: अब्दुल राणा के आखिरी मिनट में गोल की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ ड्रा पर खत्म किया मुकाबला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.