कोरोना में दम तोड़ रही फूलों की 'महकÓ

मांग नहीं होने से किसान गोबर की रोडिय़ों में फेंक रहे फूल

By: surendra rao

Updated: 12 Apr 2021, 02:43 AM IST

मेनार. (उदयपुर).पिछले 14 महीनों से देश दुनियां में जारी कोरोना संक्रमण के कहर ने हर वर्ग के लोगों की कमर तोड़कर रख दी है। कोरोना संकट से कोई भी अछूता नहीं है। धार्मिक अनुष्ठानों पर भी इसका बड़ा असर दिख रहा है। मंदिर भले ही भक्तों के लिए खोल दिए गए हैं, लेकिन सीमित श्रद्धालु आने से फूलों का कारोबार फीका हो गया है। कोरोना से पहले जहां क्विंटलों फूलों की बिक्री सिर्फ मंदिरों में सजावट के लिए होती थी। वहीं अब बिक्री में 70 से 80 फीसदी तक गिरावट हुई है । कोरोना से जंग में लॉकडाउन के साइड इफेक्ट फूलों की खेती और उसके व्यवसाय से जुड़े लोगों पर साफ दिख रहा है।
लॉकडाउन के चलते मंदिरों में दर्शन के लिए सख्ती के तहत फूल की मांग भी कम पड़ गई है। ग्रामीण अंचल के खेतों से फूल मंडियों तक कम ही पहुंच रहे हैं। क्योंकि खरीदार नहीं है। वहीं व्यवसाइयों के पास रखे-रखे फूल सड़ रहे हैं। क्योंकि कोरोना की वजह से जारी सख्ती के कारण अधिकांश मंदिर बंद होने या सख्त पालना के चलते और वाटिकाओं में शादियां न होने के चलते फूल की मांग न के बराबर है। खरीदार न मिलने के कारण फूल खेत में ही मुरझा रहे हैं। जिसके चलते किसान की लागत भी नहीं निकल पा रही है। मांग कम होने और आवक अधिक होने से फूलों के भाव भी घट गए। किसान फूलों को कचरे और गोबर की रोडिय़ो में फेंकने को मजबूर है।
फूलों की खेती करने वालों के चेहरे भी मुरझाए इस कोरोना की वजह से फूलों के साथ-साथ उसकी खेती से जुड़े लोगों के चेहरे का रंग भी उतार दिया है। कोरोना की वजह से फूल और साज सजावट के समान और इसकी खेती और व्यवसाय से जुड़े लोगों पर लॉकडाउन का जबरदस्त असर पड़ा है । गत साल फूलों की मांग नहीं होने से अधिकांश लोगों ने खेतों को हकवा दिया था वही इस साल जिस उम्मीद से कुछ किसानों ने हालात सामान्य होने के साथ बुवाई की थी उन किसानों को भी निराशा झेलनी पड़ रही है । मांग पूर्ति के असमंजस में किसान फूलों की तुड़ाई तो कर रहे हैं लेकिन उपयुक्त मांग न होने से उन्हें कचरे में फेंकने को मजबूर हैं।

surendra rao Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned