पढ़े ऐसे शख्स की कहानी जो बरसों से पेट में आरी पत्ता, चिलम, नेल कटर, चाबियां व सिक्के लेकर घूम रहा था

पढ़े ऐसे शख्स की कहानी जो बरसों से पेट में आरी पत्ता, चिलम, नेल कटर, चाबियां व सिक्के लेकर घूम रहा था

Bhagwati Teli | Publish: Jun, 16 2019 05:15:41 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

एमबी हॉस्पिटल में अनोखा ऑपरेशन

उदयपुर . आरएनटी मेडिकल कॉलेज के अधीन एम बी हॉस्पिटल में शनिवार को एक अनोखा ऑपरेशन हुआ। सलूम्बर क्षेत्र के सराड़ी गांव के 25 वर्षीय गजेन्द्र के पेट का ऑपरेशन कर आरी पत्ते, चार चिलम, नेलकटर, 8 चाबियां, की-रिंग, सिक्के, लोहे का तार, लोहे के छोटे-छोटे टुकड़े, सेफ्टी पिन, चाकू, माला, अंगूठी, पायजेब के घुंघरू सहित करीब 50 से अधिक चीजें निकाली गई। उसके परिजनों ने बताया कि वह करीब एक वर्ष से नशे की गिरफ्त में था।

ऑपरेशन के बाद सर्जरी विभाग के डॉ डीके शर्मा और डॉ अतुल आमेटा ने पत्रिका को बताया कि उन्होंने कॅरियर में पहला ऐसा विशेष ऑपरेशन किया है। डॉ शर्मा करीब दो दशक से एवं आमेटा छह वर्ष से बतौर सर्जन काम कर रहे हैं। शर्मा ने बताया ऑपरेशन करीब डेढ़ घंटा चला। मरीज को पेट में तेज दर्द होने पर परिजन कुछ दिन पहले यहां लाए थे। रोगी के एक्सरे, सिटी स्कैन और एंडोस्कॉपी में काफी चीजें नजर आ रही थी। ऑपरेशन के बाद वह अब ठीक है और सर्जरी विभाग के वार्ड 18 ए में भर्ती है। डॉ आमेटा ने बताया कि गजेन्द्र नशे का आदी था। पेट में ये सब चीजें इधर-उधर थी। बड़ी बात यह है कि इतनी चीजें पेट में होने के बावजूद मरीज की आंतों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा। ज्यादातर बड़ी चीजें आमाशय में अटकी हुई थी, तो सिक्के, कुछ सेफ्टी पीन, लोहे के टुकड़े बड़ी आंत में पहुंच चुके थे। ऑपरेशन टीम में इन दोनों चिकित्सकों के साथ डॉ सौरभ भी थे। मेडिकल की भाषा में इसे लेप्रोटॉमी का ऑपरेशन कहा जाता है।


पिता बोले: गांजा पीता था, अक्सर चुप रहता है
मरीज के पिता भीमराज मेघवाल ने बताया कि करीब एक वर्ष से वह गांजा पीने लग गया था। पहले तो दुकान पर बैठता था, लेकिन एक वर्ष से कुछ नहीं करता है। वह अपने दोस्तों के साथ घूमने के कारण नशा करने लग गया था। वह अर्से से घर पर ही चुपचाप रहता है। कुछ पूछने पर जवाब भी नहीं देता। ज्यादा पूछने पर वह घर से भाग जाता था। उन्होंने बताया कि गजेन्द्र की पत्नी मायाकुमारी से परिजनों ने इस बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसे पता ही नहीं चला कि वह यह सब कम खाता था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned