अव्यवस्थाएं बढ़ा रही अपनों को खोने का दर्द

- एमबी हॉस्पिटल : मृत्यु प्रमाण पत्रों पर लगाया ताला
- इएसआईसी में भर्ती रहे मृतकों के परिजन काट रहे चक्कर

By: bhuvanesh pandya

Updated: 08 Oct 2020, 07:17 AM IST

भुवनेश पंड्या
उदयपुर. एमबी हॉस्पिटल में उपचार के दौरान मौत के बाद परिजन मृत्यु प्रमाण पत्र मांगते हैं, लेकिन अस्पताल में मानो इन दिनों मृत्यु प्रमाण पत्रों पर ताला ही लगा दिया है। हालात ये है कि कमेटी से जांच की मुहर के नाम पर दो पखवाड़े से अधिक समय से प्रमाण पत्र जारी ही नहीं हो रहे। ऐसे में मृतकों के परिजन अनिवार्य विभागीय कार्यों को लेकर जरुरत पडऩे पर दूर दराज से प्रमाणपत्र लेने तो आते हैं, लेकिन प्रमाणपत्र लेने को लेकर उनकी चप्पले घिस रही है, लेकिन प्रमाण पत्र हाथ नहीं आ रहा। ये समस्या खास तौर पर उन मृतकों के परिजनोंं के सामने आ रही है, जिनकी मृत्यु इएसआईसी में हुई है।

------
ये है हालात

यदि इएसआईसी में किसी भी मरीज की मौत होती है तो वहां से विवरण एमबी हॉस्पिटल भेजा जाता है, लेकिन विवरण को जांचने के लिए भी चार सदस्यीय चिकित्सकों की कमेटी बनाई गई है। वह ये जांच करती है कि मृतक का उपचार पूरे प्रोटोकोल से हुआ या नहीं। इएसआईसी से जो डेथ समरी आ रही है वह कई-कई दिनों तक अधीक्षक कार्यालय में पड़ी रहती है। ऐसे में वह विवरण जब तक मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने वाले कार्यालय यानी रिकॉर्ड रूम तक नहीं जाती, तब तक जारी नहीं किया जाता है। ऐसे में यदि मृतक के 21 दिन से अधिक समय हो गया तो ऑनलाइन इन्द्राज में समस्या आती है और प्रमाण पत्र जारी नहीं होता। इसके बाद हॉस्पिटल से एक पर्ची के आधार पर इसे नगर निगम में बनवाना पड़ता है।
-----

इनका कहना
समस्या आ रही है। मैंने इसे लेकर पांच बार अधीक्षक कार्यालय को पत्र लिखा है। इसके बाद भी जवाब नहीं मिला है। जो मृतक इएसआई हॉस्पिटल के हैं, इनका विवरण हमें नहीं मिलने से सर्टिफिकेट यहां से जारी नहीं हो पाते हैं। 21 दिन बाद यदि विवरण मिलती है तो ऑनलाइन अनुमति नहीं होने से सर्टिफिकेट जारी नहीं किए जा रहे हैं। ऐसे में कई लोग यहां आकर लौट रहे हैं। जब तक हमारे पास विवरण नहीं आती, तब तक ये सर्टिफिकेट जारी नहीं हो पाते ये हमारी भी मजबूरी है।

डॉ. नरेन्द्र बंसल, प्रभारी, रिकॉर्ड रूम
------

चार सदस्यीय कमेटी केवल समीक्षा करती है। इससे मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं रुकता है। हमारी ओर से सभी फाइल देखकर इसकी सूची अधीक्षक कार्यालय भेज दी गई है। हमने कोई फाइल नहीं रोकी है। हम चार चिकित्सकों की टीम ये समीक्षा करती है।
डॉ. महेश दवे, चिकित्सक, एमबी हॉस्पिटल

-----
हमारी ओर से मृतकों की नियमित जानकारी एमबी हॉस्पिटल भेजी जा रही है। वहां से रिकॉर्ड रूम क्यों नहीं जारी कर रहा है, इसके बारे में तो वहीं बता सकते हैं।

डॉ. अशुंल म_ा, नोडल प्रभारी, इएसआईसी

------

हॉ ऑडिट को लेकर कुछ समस्या आई थी जिसे हल कर रहे हैं, जल्द ही जो पुराने बकाया या अटके हुए हैं उन्हें हल करेंगे, ताकि कोई परेशानी नहीं हो। व्यवस्था ऐसी कर रहे है कि किसी को भी बेवजह मृत्यु प्रमाण पत्र लेने के लिए परेशानी नहीं उठानी पड़े।

डॉ आरएल सुमन, अधीक्षक एमबी हॉस्पिटल उदयपुर

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned