ये शातिर चोर रात में नहीं द‍िन में न‍िकलते हैं चोरी पर, व‍िग पहन कर देते हैं वारदात को अंजाम

डॉक्टर की फर्जी फाइल व बुजुर्ग के साथ फ्लेट में चोरी करने वाली गैंग चढ़ी हत्थे, देश में 350 वारदात कुबूली, चार आरोपी गिरफ्तार, कई आरोपियों को किया नामजद

By: madhulika singh

Updated: 03 Dec 2019, 03:27 PM IST

उदयपुर. हिरणमगरी थाना पुलिस ने सोमवार को अंतरराज्यीय चोर गैंग का राजफाश कर चार आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके कई साथियों को नामजद किया है। पूछताछ में अब तक आरोपियों ने राजस्थान सहित चार राज्यों के अलावा देश में अलग-अलग जगह करीब 350 से ज्यादा चोरी-नकबजनी की बड़ी वारदातें स्वीकार की है। आरोपी इतने शातिर हैं कि वे सिर्फ दिन में चोरियों करते हैं। पहचान न हो इसके लिए ये विग पहनतेे हैं। गैंग के बुजुर्ग सदस्य व एक डॉक्टर की फर्जी फाइल साथ में लेकर किसी भी कॉम्पलेक्स में घुस फ्लेट में वारदात कर हाथोंहाथ शहर छोड़ जाते हैं।

एसपी कैलाशचन्द्र बिश्नोई ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में बरेली (उत्तरप्रदेश) निवासी 52 वर्षीय शहजाद अख्तर उर्फ राजा पुत्र मोहम्मद अख्तर गैंग का सरगना है। इसके साथ पुलिस ने ग्रास मंडी नकटिया, बरेली निवासी जुबेर (29) पुत्र अली हुसैन, चक महमूद ओल्डसिअी, बरेली निवासी अजहर (21) पुत्र सय्यद जुरकैन अली व जामा मस्जिद हफिजगंज, बरेली निवासी सरफराज रजा (64) पुत्र साहिद हुसैन सय्यद को गिरफ्तार किया। पुलिस ने इनके कब्जे से आधा किलो सोना, 25 किलो चांदी, 48 हजार रुपए नकद, लग्जरी होंडा सिटी कार व विदेशी करेंसी बरामद की। बरामद कार पर आरोपियों ने फर्जी नम्बर प्लेट लगा रखी थी तथा अंदर दो हरियाणा की दो फर्जी नम्बर प्लेट मिली है।

--

ऐसे देते थे वारदात को अंजाम
आरोपी इतने शातिर हंै कि इन्होंने चोरी का समय सुबह 10 से शाम 4 बजे के बीच का तय कर रखा है। गलियों में यह रैकी कर पहले उन कॉम्लपेक्स को ढूंढ़ते हैं, जहां गार्ड व सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हो। उसके बाद बुजर्ग साथी व एक डॉक्टर की फर्जी फाइल लेकर अंदर घुसते थे। लिफ्ट से किसी भी फ्लोर में पहुंचकर लॉक लगा फ्लेट तलाश कर लेते थे। उसके बाद बुजुर्ग को पास में खड़ा कर औजार से ताला तोड़ते हुए अंदर घुस जाते। कुछ देर में ही वारदात को अंजाम देकर वे वापस बाहर निकलते हुए कार में बैठकर शहर छोड़ देते थे। रास्ते में कहीं धरपकड़ न हो जाए इसके लिए वे चोरी के माल में से कीमती सामान, जेवर व नकदी अपने पास रखते हुए बाकी कबाड़ा चलती गाड़ी में ही फेंक देते थे।

--
यह इलाका रहा इनका प्रमुख

आरोपियों ने बिहार, उत्तरप्रदेश, राजस्थान व गुजरात राज्य के अलावा कई देश में कई जगह बड़ी चोरी व नकबजनी की वारदातों को अंजाम दिया। अब तक पूछताछ में उत्तरप्रदेश में लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, इलाहाबाद, आगरा, प्रतापगढ़, बिहार में पटना, महाराष्ट्र के औरंगाबाद, राजस्थान में जयपुर, अजमेर, उदयपुर, नाथद्वारा, राजसमंद, गुजरात में साबरकांठा, माउंट आबू में वारदात को अंजाम दिया। आरोपी इतने शातिर हंै कि वे जिस जगह जाते वहां वे अपने वाहन पर अपनी नम्बर प्लेट लगा लेते थे।

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned