ये एेसे बच्चे जो तीन साल में एक बार मनाएंगे हैप्पी बर्थ डे -

लीप डे विशेष - शाम छह बजे तक जन्मे ३१ बच्चे

By: bhuvanesh pandya

Published: 01 Mar 2020, 10:18 PM IST

भुवनेश पंड्या

उदयपुर. आरएनटी मेडिकल कॉलेज में लीप डे यानी तीन वर्ष बाद चौथे वर्ष आने वाले दिन २९ फरवरी को शाम छह बजे तक ३१ बच्चों का जन्म हुआ है। इसमें २१ लड़के हैं तो १० लड़कियां है। इन बच्चों को जन्म दिन अब ठीक तीन वर्ष बाद चौथे वर्ष यानी वर्ष २०२४ की २९ फरवरी को गुरुवार के दिन आएगा। ये बच्चे अपनी ६० वर्ष तक की उम्र तक केवल १५ बार ही अपना जन्म दिन मना पाते हैं।

-----

अब एेसे आएंगे लीप डे - २९ फरवरी २०२८- गुरुवार - २९ फरवरी- २०३२- रविवार

-----

लीप ईयर जिसे हम हिंदी में लीप वर्ष या अधिवर्ष के नाम से भी जानते हैं। प्रत्येक चार वर्ष में एक बार आता है। इस वर्ष 2020 को लीप वर्ष के रूप में मनाया जा रहा है, वर्ष 2020 के बाद अगला लीप ईयर सन 2024 में आएगा। लीप ईयर या अधिवर्ष हम उस वर्ष को कहते हैं, जिसमें साल का फ रवरी महीना 28 के बजाय 29 दिन का होता है। इसलिए लीप वर्ष में 365 दिनों की जगह 366 दिन का एक वर्ष होता है। लीप ईयर की शुरुआत सबसे पहले जूलियस सीजर ने की थी लेकिन उनके अनुसार साल में 365 दिन 6 घंटे का समय होता था, जिससे हर 400 वर्ष के अंतर पर 3 दिन अधिक हो जाते। इसमें पॉप ग्रेगरी ने 1582 ई. में 5 अक्टूबर में 10 दिनों को जोड़कर 15 अक्टूबर करके सुधार कर दिया और वर्तमान में यही कैलेंडर पूरे विश्व में प्रचलन में है।

-----

बीता दिन 4 साल में एक बार आता हैइस वर्ष २०२० को निकला शनिवार, लीप ईयर का दिन था। एेसा दिन चार साल में एक बार इसलिए आता हैं क्योंकि पृथ्वी सूर्य का चक्कर लगाती है और पृथ्वी सूर्य का एक पूर्ण चक्कर लगाने के लिए 365 दिन 6 घंटे 48 मिनट 45.51 सेकेंड का समय लेती है। अब इसमें 365 दिन के अतिरिक्त लगने वाला समय प्रत्येक चौथी साल में लगभग एक दिन के बराबर हो जाता है। इस बढ़े हुए दिन को हर चौथी साल के फ रवरी के माह में जोड़ दिया जाता है जिससे फ रवरी 29 दिन की हो जाती है इसलिए लीप ईयर हर चार साल में एक बार आता है। -----

लीप वर्ष से सम्बंधित अन्य जानकारीलीप ईयर नियम को पॉप 13 ग्रेगरी ने 1582 ई में जूलियन कैलेंडर को संशोधित करके लागू किया था। जूलियन कैलेंडर 1582 ई आते-आते 10 दिन पीछे हो गया था, तो पॉप ग्रेगरी ने अपने कैलेंडर में 05 अक्टूबर के बाद 10 दिनों का बढ़ाकर 15 अक्टूबर कर उसे बराबर कर दिया।

-----

सीता और सुभाष के शनिवार यानी लीप डे के दिन जनाना हॉस्पिटल में बेटा पैदा हुआ है। जनाना अधीक्षक डॉ मधुबाला चौहान ने बताया कि उन्हें इस बारे में बताया कि अब तीन वर्ष बाद यानी चौथे वर्ष वे अपने बेटे का जन्मदिन मनाएंगे। आज का दिन उनके लिए खास है।

bhuvanesh pandya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned