सरकार मजदूर के खाते में डाल रही पैसा, फर्जी हाजिरी भर कार्मिक उठा रहे

सरकार मजदूर के खाते में डाल रही पैसा, फर्जी हाजिरी भर कार्मिक उठा रहे

By: Mohammed illiyas

Published: 15 Nov 2020, 01:42 PM IST

मोहम्मद इलियास/उदयपुर
नरेगा में काम करने के एवज में बने 10500 रुपए मेहनताना और उसमें से भी 8000 की रिश्वत। है ना बड़ी अजीब मांग लेकिन यह सच है, यह पूरा खेल नरेगा में हाजिरी में फर्जीवाड़ा कर चल रहा था। सरकार द्वारा अब सीधे मजदूरों के खाते में पैसा डलवाने पर अब फर्जी हाजिरी भरकर पैसा उठाया जा रहा था।
ब्यूरो के एएसपी सुधीर जोशी ने बताया कि खाखरिया सेडी काट (सलूम्बर) निवासी गणेशलाल पुत्र मोताजी मीणा से आठ हजार रुपए रिश्वत लेते पकड़े गए ग्राम पंचायत काट के कनिष्ठ सहायक इडाणा निवासी सचिव महेन्द्र कुमार पुत्र भगवानलाल शर्मा परिवादी से पहले भी इसी तरह फर्जीवाड़ा कर पैसे ले चुका था। दूसरी बाद 10500 में से 9 हजार की मांग करने पर उसने उदयपुर ब्यूरो कार्यालय पहुंच इसकी शिकायत कर दी।
--
पैसा दे नहीं तो अब काम नहीं
ब्यूरो की जांच में स्पष्ट हुआ कि परिवादी गणेशलाल व उसकी पत्नी कमला द्वारा जुलाई में माह में नरेगा का काम करने के एवज में कुल 10500 रुपए आए थे लेकिन दोनों ने काम ही नहीं किया। सचिव का प्रभार भी देख रहे कनिष्ठ सहायक महेन्द्र कुमार शर्मा ने फर्जी हाजिरी लगा दी। मजदूर के खाते में पैसा आते ही रिश्वत की मांग कर डाली। राशि नहीं देने पर आगे नरेगा में काम नहीं देने, हाजिरी नहीं लगाने व इंदिरा आवास के स्वीकृत 1.40 लाख रुपए की राशि नहीं देने की धमकियां दी। इस प्रकरण में भी परिवादी के खाते में 10500 रुपए आते ही धमकी देकर कहां गया कि काम नहीं किया तो पैसा किसका। 9 हजार रुपए रुपए उसे दे और बाकी के 1500 रुपए वह रख ले। पैसा नहीं दिया तो आगे काम भी नहीं मिलेगा।
--
अपने ही गांव के लोगों को शोषण
आरोपी महेन्द्र कुमार शर्मा छह साल पहले ही राजकीय सेवा में स्थाई हुआ। इससे पहले भी वह नरेगा में ही अस्थायी नौकरी पर था। उसे पंचायत व नरेगा के समस्त कार्र्याे का अनुभव था। ग्राम पंचायत काट से पहले दो साल मामिया ग्राम पंचायत में काम किया। दोनों ही ग्राम पंचायत इसके गांव इडाणा से 10 से 12 किलोमीटर की दूरी पर ही है। खुद के गांव में नौकरी के बाद भी अपने लोगों को शोषण कर रहा था।
--
नरेगा के भुगतान की जांच
एएसपी के नेतृत्व में सीआई हरीशचन्द्र सिंह, सीआई डॉ.सोनू शेखावत, हेडकांस्टेबल रमेशचन्द्र, भरतङ्क्षसह, मांगीलाल, लालसिंह, करणसिंह व कनिष्ठ सहायक लक्ष्मणङ्क्षसह ने ग्राम पंचायत काट में छापा मारने के बाद वहां से दस्तावेज जब्त किए। फर्जीवाड़े के खुलासे के बाद लॉकडाउन में दौरान नरेगा में किए भुगतान की भी जांच की जा रही है।
--

Mohammed illiyas Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned