पहली बार: दिन में बहेगा, रात को बंद रहेगा फतहसागर का झरना

पहले दिन 12 घंटे में दो इंच घट गया लेवल, बीते 47 साल में 25वीं बार छलका फतहसागर

By: Pankaj

Published: 08 Oct 2021, 12:29 PM IST

उदयपुर. शारदीय नवरात्र की शुभ घड़ी और गुरुवार की सुबह। एक ओर लबालब फतहसागर हिलौरे मार रहा था तो दूसरी ओर चरम पर था शहरवासियों का उत्साह। फतहसागर से जलराशि झरने के रूप में बहने के नजारे को यादों में समेटने को हर कोई आतुर था। गेट खुलने लगे, नजारा अद्भुत हो गया। हर ओर गूंज उठे तो एकलिंगनाथ के जयकारे। देखते ही देखते फतहसागर झरने की जलराशि दौड़ पड़ी अगले मुकाम की ओर।

कुछ ऐसा ही माहौल था, जब गुरुवार सुबह फतहसागर के गेट खोले गए। जल संसाधन विभाग के इतिहास के बीते 47 साल में 25वीं बार फतहसागर छलका है। बीते 10 साल की स्थिति देखें तो वर्ष 2018 को छोड़कर हर साल छलकता रहा है। इस साल कुछ स्थिति अलग भी बन रही है। इस बार बरसात कमजोर रहने से आवक कम है। लिहाजा गेट दिन में खोलने और रात को बंद रखने का निर्णय लिया है। यह वाकया पहली बार ही हो रहा है। पहले दिन के 12 घंटे चले झरने में ही लेवल दो इंच कम हो गया।
आवक बंद होने पर बंद होंगे गेट
बीते चार दिनों से बरसात नहीं हुई, लेकिन आगामी दिनों में अब भी बरसात होने की उम्मीद जताई जा रही है। फिलहाल मदार नहर से आवक बनी हुई है। जब तक आवक बनी रहेगी, तब तक फतहसागर का झरना चलता रहेगा।

तीन तारीख की बरसात ने फूंकी जान

अक्टूबर के शुरुआती दिनों में तीन दिन तक बरसात हुई, जबकि बीते चार दिन सूखे बीत गए। 3 तारीख को डेढ़ इंच बरसात हुई थी, जिससे मदार नहर में पानी की अच्छी आवक हुई। उस दिन लेवल एक फीट तक बढ़ गया था।
अब उदयसागर की बारी
उदयपुर को सरसब्ज रखने वाली बांध-तालाब भर चुके हैं। पिछोला में आवक जारी है, वहीं फतहसागर का पानी चल रहा है। दोनों का पानी आयड़ नदी से उदयसागर पहुंच रहा है। उदयपुर सागर का लेवल प्रतिदिन एक-एक बढ़ रहा है।

लाइव देख सकते हैं फतहसागर

हर साल की तरह इस बार भी यूआईटी की ओर से फतहसागर ओवर फ्लो स्थल पर कैमरे लगाकर लाइव किया गया है। इसके लिए लिंक दिया गया है, जिससे झरने का वीडियो लाइव देखा जा सकता है।
पहले की पूजा, फिर खोले गेट
जल संसाधन विभागीय अधिकारियों की मौजूदगी में कलक्टर चेतन देवड़ा ने पूजा-अर्चना की। यूआईटी सचिव अरुण हासिजा, महापौर जीएस टांक, उपमहापौर पारस सिंघवी मौजूद रहे। बाद में एसपी डॉ. राजीव पचार भी फतहसागर पहुंचे। एइएन जीवनराम मीणा ने बताया कि कुछ देर चारों गेट खोलने के बाद ऊंचाई कम की गई।

कहां का कितना जल स्तर

स्रोत - बुधवार शाम - गुरुवार शाम - कुल क्षमता
फतहसागर - 13.3 - 13.4 - 13 फीट

पिछोला - 11 - 11- 11 - फीट
देवास प्रथम - 9.6 - 9.6 - 34 फीट

मादड़ी बांध - 22.5 - 22.6 - 34 फीट
मदार बड़ा - 24 - 24 - 24 - फीट

मदार छोटा - 21 - 21 - 21 - फीट
गोवर्धनसागर - 9 - 9 - 9 - फीट

ढूंढिय़ा बांध - 5.7 - 5.7 - 5.7 फीट
उदयसागर - 22.1 - 22.2 - 24 फीट

वल्लभनगर - 4.6 - 4.6 - 19.6 फीट
नदी फीडर में बहाव
चिकलवास हेड - 2.1 फीट

चिकलवास टेल - 4.4 फीट
सिसारमा नदी - 2.6 फीट

नान्देश्वर चैनल - 0.5 फीट
बरसात: अब तक 82 फीसदी औसत
स्वरूपसागर - 273

देवास - 672
मदार - 404

नाई - 366
उदयसागर - 642

वल्लभनगर - 685
बागोलिया - 585

कुल औसत - 518.14

Pankaj Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned