इस घृणित कृत्य के लिए तो 20 साल भी सलाखों में कम है वृद्ध के लिए

इस घृणित कृत्य के लिए तो 20 साल भी सलाखों में कम है वृद्ध के लिए

By: Mohammed illiyas

Published: 24 Sep 2021, 06:49 PM IST

मोहम्मद इलियास/उदयपुर
पांच वर्षीय एक मासूम के नाजुक अंगों में लकड़ी डाल कृकत्य के प्रयास करने वाले वृद्ध को न्यायालय ने दोषी करार करते हुए 20 साल के कठोर कारावास व पांच हजार रुपए जुर्मान की सजा सुनाई। 27 माह पहले हुए इस घृणित घटनाक्रम राज्य मुख्यालय ने गंभीरता से लेते हुए एसपी की देखरेख में इसमें समस्त गवाह व साक्ष्य पेश करवाए थे। पुलिस की ओर से नयागुड़ा गोगुन्दा निवासी निवासी आरोपी पुरा पुत्र गल्ला गमेती के विरुद्ध चालान पेश करने पर विशिष्ट लोक अभियोजक चेतनपुरी गोस्वामी ने 19 गवाह व 21 दस्तावेज पेश किए। आरोप सिद्ध होने पर विशिष्ट न्यायालय (लैगिंक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम तथा बालक अधिकार संरक्षण आयोग अधिनयम) क्रम.1 न्यायालय के पीठासीन अधिकारी भूपेंद्र कुमार सनाढ्य ने आरोपी को पोक्सो एक्ट की धारा 6 में 20 साल के कठोर कारावास व पांच हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। वहीं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण को 60 दिन में पीडि़ता को पीडि़त प्रतिकर स्कीम के तहत चार लाख रुपए देने के आदेश दिए।
--
सरकार ने भी केस को लिया था गंभीरता से
पुलिस ने अनुसार आरोपी 60 वर्षीय नयागुड़ा गोगुंदा निवासी पुरा पुत्र गल्ला गमेती बालिका को बहलाफुसला कर एकांत में ले गया था। वहां उसने बच्ची के नाजुक अंगों में लकड़ी डाल दी थी। इस घृणित कृत्य की राज्यभर में भत्र्सना हुई और राज्य सरकार ने केस को विशेष देखरेख में रखते हुए पुलिस को आदेश देकर समय पर गवाह व साक्ष्य पेश किए। विशिष्ट लोक अभियोजक अपराध साबित करने में सफल रहा।
--

Mohammed illiyas Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned