भाई से मारपीट करने पर मां ने सिर्फ इतना कहा मर जा और उसने मौत को गले लगा लिया

Mohammed Iliyas | Publish: Oct, 11 2019 01:17:36 PM (IST) | Updated: Oct, 11 2019 01:23:14 PM (IST) Udaipur, Udaipur, Rajasthan, India

भाई से मारपीट करने पर मां ने सिर्फ इतना कहा मरा जा और उसने मौत को गले लगा लिया

मोहम्मद इलियास/उदयपुर

भाई-बहन के बीच नोक-झोंक, मनो-विनोद और लड़ाई-झगड़ा आम बात है, लेकिन भाई की पक्षधर बनी मां के मुंह से निकले शब्द उसे तीर की तरह ऐसे चुभे कि आवेश में आकर उसने मौत को ही गले से लगा लिया। मूलत: नेपाल की रहने वाली 19 वर्षीय नीलम थापा ने एक माह पहले खुद के शरीर पर डीजल उड़ेल कर आग लगा ली। सत्तर फीसदी झुलसी हालत में उसे एमबी चिकित्सालय में भर्ती कराया गया, जहां बुधवार को उसने दम तोड़ दिया। पूरे घर का खर्च चलाने वाली नीलम ने जब दुनिया को अलविदा कहा तो परिजनों के पास उसका शव उठाने व दाह संस्कार तक के पैसे नहीं थे। बीमार पिता उसके शव के पास बैठ फूट-फूटकर खूब रोए। जानकारी मिलने पर महाराणा प्रताप सेना के कार्यकर्ताओं ने उसकी अंत्येष्टि की और भामाशाह की मदद से गांव जाने के लिए किराया जुटाया।
--
खुद कुंवारी रहकर तीन बहनों का रचाया विवाह
मृत युवती के पिता नेपाल हाल माउंटआबू निवासी अमृत बहादुर थापा ने बताया कि नीलम पांच भाई- बहनों में दूसरे नम्बर की थी। खुद कुंवारी रहते हुए उसने छोटी व बड़ी तीन बहनों के विवाह में अहम भूमिका निभाई। उसने उसकी बाइपास सर्जरी भी करवाई। माउंटआबू में ही अंडे व आमलेट का ठेला लगाकर पूरे घर का खर्च वहन कर रही थी। पिता का कहना है कि अस्पताल में करीब एक माह तक भर्ती रहने के दौरान वह बिल्कुल स्वस्थ्य हो चुकी थी। बुधवार दोपहर उसकी तबीयत बिगड़ गई और वह चल बसी। मौत के समय उसके पास पिता के अलावा छोटी बहन ज्योति व भाई दिलबहादुर ही था। आर्थिक तंगी के चलते परिवार के अन्य सदस्य यहां नहीं पहुंच पाए। पिता के पास शव उठाने व दाह संस्कार के भी पैसे नहीं होने पर महाराणा प्रताप सेना उसके परिवार का मददगार बनी। संरक्षक मोहनसिंह राठौड़ ने अपने सहयोगी प्रेमशंकर पालीवाल, रणजीतङ्क्षसह, विनोद प्रजापत, निर्मल टेलर, चन्द्रवीर, ललित घारू, नंदराज भारती, अम्बालाल, सुनील, सनी कल्याणा व विनोद डोडी के साथ मृतका का अशोकनगर श्मशान घाट पर दाह संस्कार किया।
--
यह थी छोटी सी बातपिता ने बताया कि 11 सितम्बर को नीलम का मोबाइल बाल्टी में गिरने से भाई दिलबहादुर से मामूली झगड़ा हुआ था। विकलांग मां तुलसीदेवी ने उसे महज ‘रोज-रोज भाई से क्या लड़ती रहती है तू मर जा’ इतनी ही कहा था। नीलम को यह शब्द तीर के तरह चुभ गए और नीलम ने कमरे में जाकर स्वयं पर डीजल उड़ेलते हुए आग लगा दी। आग से उसका शरीर का काफी हिस्सा झुलस गया था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned