अगले माह तय होगी स्टेशन की रूपरेखा, तीन साल में होगा काम

132 करोड़ में पुनर्विकसित होगा उदयपुर रेलवे स्टेशन: विश्वस्तरीय एकीकृत हब बनाने की योजना

By: Pankaj

Published: 25 Jul 2021, 11:28 AM IST

उदयपुर. निजीकरण की दिशा में रेलवे एक कदम और आगे बढ़ गया है। उदयपुर सिटी रेलवे स्टेशन को निजी हाथों में देना तय करने के बाद अब कॉन्ट्रेक्ट देने की तैयारी की गई है। इसके लिए भारतीय रेलवे स्टेशन विकास निगम (आईआरएसडीसी) ने स्टेशन पुनर्विकास के लिए रिक्वेस्ट फॉर क्वालिफिकेशन (आरएफक्यू) मांगा है। इस पूरे काम में 132 करोड़ का खर्च आना बताया गया है, वहीं समय सीमा तीन साल निर्धारित की गई है। प्री-बिड बैठक 6 अगस्त को होगी, वहीं बोली लगाने की अंतिम तिथि 31 अगस्त है। उदयपुर, केंद्र सरकार के प्राथमिक एजेंडे के तहत पुनर्विकसित किए जाने वाला रेलवे स्टेशन है।
यह बताया प्रोजेक्ट का उद्देश्य

सिटी स्टेशन को अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित कर आधुनिक स्टेशन के रूप में विकसित करना है। परिकल्पना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के समान ही एकीकृत रेलवे स्टेशन के रूप में की गई है। ट्रांजिट ओरिएंटेड डेवलपमेंट का पालन करते हुए स्टेशन को डिजाइन-बिल्ड फाइनेंस ऑपरेट ट्रांसफर मॉडल पर पुनर्विकसित किया जाएगा। उसका दायित्व होगा कि स्टेशन का पुनर्विकास और रखरखाव करे। स्टेशन उपयोगकर्ताओं और वाणिज्यिक विकास से कमाई करने का अधिकार होगा।

आंकड़ों में समझें
49,8115 वर्गमीटर में होगा डवलपमेंट

10,1374 वर्गमीटर में बनेगा स्टेशन एस्टेट
16,465 यात्रियों की आवाजाही प्रतिदिन

50,000 करोड़ कुल निवेश सभी स्टेशनों के लिए

यह भी जानें
125 रेलवे स्टेशन पुनर्विकसित होंगे देश में

63 स्टेशनों पर आईआरएसडीसी का काम
60 स्टेशनों पर रेल भूमि विकास प्राधिकरण का काम

60 साल का मॉडल बनाकर होगा काम

पुनर्विकास की मुख्य विशेषताएं
- स्टेशन की नई बिल्डिंग बनेगी, जिसमें अंडर-ब्रिज से दो तरफा रोड को जोड़ा जाएगा।

- प्रवेश और निकास के लिए अलग व्यवस्था होगी। हर जगह दिशा ***** लगेंगे।
- प्रस्तावित स्टेशन भवन में उदयपुर की स्थापत्य शैली, राजस्थान की विरासत दिखेगी।

- यात्रियों के लिए हवाई अड्डे जैसा कॉनकोर्स और विश्व स्तरीय सुविधाएं होंगी।
- स्टेशन भवन में यात्रियों के लिए अलग-अलग आवाजाही की व्यवस्था।

- बस स्टेशन और रेलवे स्टेशन के बीच बेहतर सड़क संपर्क प्रदान किया जाएगा।
- स्टेशन से जुड़ी कवर्ड पार्किंग होगी। शेल्टर्ड ड्रॉप-ऑफ जोन होंगे।

- दिव्यांगों के लिए शत प्रतिशत सुगम परिसर, जहां हर जगह लिफ्ट सुविधा होगी।

रोजगार के अवसरों का भी सृजन
उदयपुर पर्यटन स्थल है। रेलवे स्टेशन पुनर्विकास का उद्देश्य इसे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के तर्ज पर प्रतिष्ठित केंद्र में बदलना है। प्रोजेक्ट पुनर्विकास स्टेशन को उदयपुर शहर के लिए प्रवेश द्वार के रूप में स्थापित करेगा। इसका गुणात्मक प्रभाव स्थानीय अर्थव्यवस्था के विकास और रोजगार के अवसरों के सृजन पर होगा। स्टेशन पुनर्विकास के लिए नोडल एजेंसी के रूप में, आईआरएसडीसी परियोजनाओं को समय के साथ पूरा करेगी।

एसके लोहिया, एमडी एवं सीईओ, आईआरएसडीसी

Pankaj Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned