'शादी नहीं करना चाहती, मैं पढऩा चाहती हूं मां'

कुंवारे मामा के आटे-साटे का शिकार हो रही थी बालिका, सूझबूझ से घर छोड़ निकली, पांच महीने बाद मिली, अपनों से ही प्रताडि़ता हुआ बाल मन

By: Pankaj

Published: 29 Jul 2021, 01:55 PM IST

उदयपुर. 'मैं अभी शादी नहीं करना चाहती, पढऩा चाहती हूं। मेरे मामा की शादी नहीं हो रही थी। ऐसे में आटे-साटे में रिश्ता करने के लिए मुझ पर घर-परिवार वाले दबाव बना रहे थे। इसलिए घर छोड़ दिया। अब घर नहीं जाना चाहती। घर रहने से तो अच्छा है मैं नारी निकेतन में रह लूंगी।Ó

यह उस 16 वर्षीय बालिका की जुबानी है, जो बाल विवाह की शिकार होते-होते रह गई। एक मार्च को खेरोदा थाना क्षेत्र से लापता हुई बालिका का 5 महीने बाद पता चला है। पुलिस ने उसे इंदौर से दस्तयाब कर उदयपुर जिला पुलिस अधीक्षक और फिर सीडब्ल्यूसी के समक्ष पेश किया। बालिका ने बयानों में हकीकत बयां की तो सब की आंखें खुली रह गई। दरअसल बालिका के मामा का कहीं रिश्ता नहीं हो रहा था। ऐसे में मामा के लिए आटे-साटे से रिश्ता करने के लिए परिवार ने भांजी को दांव पर लगाया। वह इस तरह के रिश्ते के लिए तैयार नहीं थी, बल्कि शादी के बजाय पढ़ाई करना चाहती थी। परिजन लगातार दबाव बना रहे थे। और तो और बालिका की मां और मामा ने आटे-साटे के रिश्ते में बंधने के लिए तैयार नहीं होने पर गंभीर मारपीट करने तक की धमकियां दे डाली। तीन बहनों में यह बालिका सबसे बड़ी है। 11वीं कक्षा में पढऩे वाली बालिका ने पढ़ाई का हवाला दिया, लेकिन परिवार के बीच उसकी एक ना चली। इससे उसका मन आहत हो गया और उसने घर छोडऩे का मानस बना लिया। आखिर 1 मार्च को बालिका खेरोदा थाना क्षेत्र के गांव में स्थित अपने घर से निकल गई। परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। काफी तलाश के बाद पुलिस को बालिका के इंदौर में होने का पता चला तो उसे दस्तयाब किया गया।

घर जाने से किया इनकार
बालिका घर-परिवार के दबाव से इतना आहत हो गई थी कि अब घर नहीं जाना चाहती। उसने पुलिस अधीक्षक और सीडब्ल्यूसी के समक्ष दिए बयान में घर जाने से साफ इनकार कर दिया। ऐसे में पुलिस ने बालिका को नारी निकेतन भेज दिया। थानाधिकारी ने बताया कि बालिका के 164 के बयान बाकी है, जिसकी कार्रवाई गुरुवार को की जाएगी।

Show More
Pankaj Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned